Stock Market Charges STT- GST-DP- BROKERAGE क्या होता है?

Stock market charges www.sharemarkethindi.com

Stock Market Charges- शेयर खरीदने और बेचने पर Tax and Charges

दोस्तों, स्टॉक मार्केट में सभी सौदों (खरीद या विक्री) के ऊपर कुछ चार्ज लगते है, जिन्हें stock market charges कहा जा सकता है, जो की एक शेयर खरीदने और बेचने के लिए स्टॉक के मूल्य के साथ दिए जाने स्टॉक ब्रोकर कमीशन और टैक्स भी कहे जा सकते है,

आज हम इसी stock market charges के बारे में बात करेंगे,

ट्रेडिंग टाइप इन स्टॉक मार्केट

सबसे पहले इस बात को समझे कि स्टॉक मार्केट में दो तरह की ट्रेडिंग होती है,

  1. इंट्रा डे ट्रेडिंग – जिस दिन खरीदना , उसी दिन बेचना,
  2. पोजीशनल ट्रेडिंग (डिलीवरी बेस्ड ट्रेडिंग) – खरीदने के अलगे दिन या उसके बाद कभी भी बेचना,

ट्रेडिंग segment of स्टॉक मार्केट

और स्टॉक मार्केट में ट्रेडिंग करने के अलग अलग सेगेमेंट भी बनाये गए है ,

  1. Equity segment – जिसमे सिर्फ स्टॉक ख़रीदे और बेचे जाते है,
  2. Derivative Segment – जिसमे stocks future और stocks option ख़रीदे और बेचे जाते है,
  3. Commodites segement – जिसमे commodites future और commodites option ख़रीदे और बेचे जाते है,
  4. Currencies segement – जिसमे Currencies future और Currencies option ख़रीदे और बेचे जाते है,

ये चार स्टॉक मार्केट में मुख्य segement है जिसमे लोग ट्रेडिंग करते है, चाहे वो इंट्रा डे ट्रेडिंग, हो या पोजीशनल ट्रेडिंग, अब ऐसे में इन अलग अलग segement में चार्जेज भी अलग अलग होते है,

आप जिस भी segement में ट्रेडिंग करने जा रहे है, उस segment में लगने वाले चार्जेज के बारे में अपने स्टॉक ब्रोकर से जरुर पता करे ले, ताकि आपको अपने सौदों पर लगने वाले सभी तरह के चार्जेज के बारे में अच्छी तरह से पता हो,

Stock market charges

यहाँ पर हम बात करेंगे, stock market charges के उन कॉमन चार्जेज के बारे में जो कि खास तौर से equity segment में लगते है,

STOCK BROKERAGE क्या होता है?

STOCK BROKERAGE वो चार्ज होता है, जो हमारा स्टॉक ब्रोकर, स्टॉक खरीदने या बेचने पर COMMISON/BROKERAGE के रुपे में लेता है, इसे BROKERAGE या BROKERAGE FEE के नाम से जाना जाता है,

ध्यान रहे, सभी स्टॉक ब्रोकर, अकाउंट खोलते समय ही आपको बता देते है, कि वो स्टॉक मार्केट के अलग अलग सेगमेंट और स्टॉक मार्केट ट्रेडिंग टाइप में आपसे कितना BROKERAGE लेंगे,

STT क्या होता है?

STT का फुल फॉर्म है Securities Transaction Tax

STT भारत में किसी भी RECOGNIZED स्टॉक एक्सचेंज से SECURITES TRANSACTION (BUY OR SELL) के समय लगाया जाता है,

STT सेंट्रल गवर्नमेंट द्वारा तय किया जाता है, और कितने प्रतिशत चार्ज किया जाता है इसके बारे में आप अधिक जानकारी नीचे दिए गए लिंक से भी पढ़ सकते है – BANKBAZAR STT EXPLAINED LINK

STT के सम्बन्ध में एक खास पॉइंट जो याद रखनी चाहिए वो ये कि INTRA DAY में STT किसी स्टॉक बेचने पर ही लगायी जाती है, जो कि फ़िलहाल है 0.025% ON THE SELL SIDE,

जबकि DELIVEERY BASED ट्रेडिंग में STT किसी स्टॉक को खरीदने और बेचने पर दोनो बार लगायी जाती है, जो कि फ़िलहाल है 0.1% ON BUY AND SELL BOTH SIDE

STAMP DUTY क्या होता है?

STAMP DUTY राज्य द्वारा लगाया जाने वाला टैक्स फ़ीस है, जो की निवेशक के अपने ADDRESS में आने वाले राज्य द्वारा तय किये गए RATE के अनुसार लगाया जाता है,

अगर महाराष्ट्र की बात की जाये तो EQUITY सेगमेंट में STAMP DUTY फीस है –

इंट्रा डे में – 0.002% और डिलीवरी ट्रेडिंग में 0.01%

आप अपने ब्रोकर के पास से आपके राज्य में लगने वाले STAMP DUTY का रेट पता कर सकते है,

TRANSACTION CHARGES क्या होता है?

TRANSACTION CHARGES या जिसे TURNOVER CHARGES भी कहा जाता है, जो कि स्टॉक एक्सचेंज द्वारा Exchange transaction charges + Clearing charges के रूप में लगाया जाता है,

फ़िलहाल EQUITY SEGMENT में ये चार्जेज है –

NSE: 0.00325% और BSE 1.50 each on buy trade & sell trade

SEBI TURNOVER CHARGES क्या होता है?

जैसा की नाम से ही स्पस्ट है SEBI TURNOVER CHARGES यानि SEBI द्वारा स्टॉक एक्सचेंज पर किये जाने वाले ट्रेड के बदले लगाया जाने वाले FEES,

जो की फ़िलहाल है ₹15 / crore

GST Charges (जो पहले सर्विस टैक्स के रूप में था) क्या होता है?

सेंट्रल गवर्नमेंट द्वारा स्टॉक मार्केट सर्विसेज के ऊपर लगाया जाने वाला टैक्स जो पहले सर्विस टैक्स के नाम से लगाया जाता था, जो जुलाई 2017 में GST लागु होने के बाद GST चार्जेज के नाम से टैक्स लगाया जा रहा है,

GST चार्जेज के सम्बन्ध में एक चीज याद रखने वाली है कि फ़िलहाल GST की रेट 18% है, जो कि पुरे TURNOVER पर नहीं बल्कि टर्नओवर पर लगाये गए brokerage + transaction charges के ऊपर लगाया जाता है,

DP (Depository participant) charges क्या होता है,

DP चार्जेज The National Securities Depository Ltd (NSDL) and the Central Depository Services India Ltd (CDSL) द्वारा लगाया जाने वाला चार्जेज है,

आपका DEMAT ACCOUNT जिस ब्रोकर के पास से है, वहा से आप DP चार्जेज के बारे में पता कर सकते है,

आशा है, आप समझ पाए होंगे की STOCK MARKET CHARGES के बारे में,अगर आपके मन में इस से जुड़ा कोई भी सवाल हो तो आप नीचे कमेंट द्वारा पूछ सकते है,

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *