Types of investment in India (इन्वेस्टमेंट के विकल्प)

Types of investment www.sharemarkethindi.com

Types of investment -इन्वेस्टमेंट के विकल्प 

दोस्तो,
आज का हमारा Topic है,
हमे इन्वेस्टमेंट के विकल्प – types of investment
Investment करने के हमारे पास क्या क्या ऑप्शन है?
और कौन इन्वेस्टमेंट से कितना फायदा है? और साथ मे किस इन्वेस्टमेंट में काम रिस्क है और किसमे ज्यादा ?

अगर आपके मन मे भी इन्वेस्टमेंट से जुड़े इस तरह के सवाल है, तो आप इस article को पूरा देखते रहिये,
क्योंकि मैं आज आपसे इसी के बारे में बात करने वाला हु,

Types of investment in India (इन्वेस्टमेंट के विकल्प)

सबसे पहले बात करते है, की इन्वेस्टमेंट करने के लिए हमारे पास क्या क्या बिकल्प मौजूद है,
अगर India की बात की जाए, तो India मे इन्वेस्टमेंट के सबसे पॉपुलर चार इन्वेस्टमेंट विकल्प कुछ इस प्रकार है-
1) FIXED INCOME INSTRUMENTS
2) GOLD (COMMODITIES)
3) REAL ESTATE
4) EQUITY (STOCK MARKET)

RISK AND REWARD OF INVESTMENT TYPES IN INDIA

इन्वेस्टमेंट कहाँ करे (Where to Invest) ये जानने से पहले आइये बात करते है कि इन इन्वेस्टमेंट के इन चारों विकल्पों के बारे में, किस इन्वेस्टमेंट से कितना फायदा है? और साथ मे किस इन्वेस्टमेंट में कितना रिस्क है ?

1) FIXED INCOME INSTRUMENTS

Fixed Income से मतलब इस तरह के इन्वेस्टमेंट से है, जहाँ से हमे इन्वेस्टमेंट से मिलने वाला लाभ बिल्कुल पहले से निश्चित यानी Fixed होता है,
Fixed Income के अंतर्गत आने वाले कुछ पॉपुलर Investment Option कुछ इस प्रकार है-
1) बैंक द्वारा दिया जाने वाला फिक्स्ड डिपॉजिट स्कीम
2) बैंक द्वारा आवर्ती जमा (RECURRING DEPOSIT -RD) स्कीम
3) भारत सरकार द्वारा बांड्स में निवेश का स्कीम
4) बड़ी बड़ी कॉरपोरेट कंपनी द्वारा दिया जाने वाला बॉन्ड स्कीम में निवेश
अगर बात की जाए FIXED INCOME INSTRUMENT से मिलने वाले लाभ और RISK की तो इस तरह के निवेश पे सबसे कम जोख़िम होता है, और RISK काम होने के कारण इस तरह के निवेश पर लाभ भी कम मिलता है,
अगर 2017 की बात की जाए तो इस तरह के निवेश पर मिलने वाला वार्षिक लाभ 7% से 11% तक होता है,

 

2) GOLD (COMMODITIES)

India में Gold में निवेश प्राचीन काल से बहुत ही लोकप्रिय है, Gold को हमारी सभ्यता और संस्कृति में प्रतिष्ठा और गर्व के साथ जोड़ दिया गया है,
अगर इनवेस्टमेंट के फायदे और Risk के लिहाज से बात की जाए तो Gold में निवेश पर Risk काफी कम होता है, क्योंकि Gold एक सीमित मात्रा में उत्पादित होने वाला धातु है, और समय के साथ इसकी कीमत बढ़ती जाती है,
और अगर Gold में निवेश से मिलने वाले लाभ की बात की जाए तो , आपको वार्षिक 8 to 9 % CAGR (Compound annual Growth Rate ) लाभ मिलता है,

3) REAL ESTATE

Real Estate में निवेश से मतलब जमीन (Plots एंड Land), घर, बंगला, अपार्टमेंट, दुकान, (Commercial और Non Commercial), की खरीद और विक्री से है,
इस तरह प्रॉपर्टी की खरीद और विक्री को Real Estate निवेश कहा जाता है,

प्रोपेर्टी में निवेश से दो तरह के लाभ यानी Income होते है –
1) पूंजीगत  लाभ
2) किराये से होने वाला Income

अगर इनवेस्टमेंट के फायदे और Risk के लिहाज से बात की जाए तो Real Estate में निवेश पर Risk काफी कम होता है,
क्योकि जमीन एक ऐसी चीज़ है , जिसका उत्पादन कोई भी कंपनी नही कर सकती, साथ ही साथ ये एक Physical Asset है, जिसका हम और भी काम ले सकते है,
किराये के रूप में इनकम या खेती के लिए,
और अगर REAL ESTAE में निवेश से मिलने वाले लाभ की बात की जाए तो , इस पर मिलने वाले लाभ को कैलकुलेट करने का कोई
निश्चित तरीका नही है, क्योंकि प्रोपेर्टी में निवेश और उस मे निवेश उस प्रोपेर्टी के LOCATION और अन्य बहुत सारे FACTOR के ऊपर DEPEND होता है,

लेकिन एक बात निश्चित है कि अगर आप प्रोपेर्टी में निवेश सिख जाते है तो, REAL ESTATE में सबसे कम RISK और सबसे ज्यादा लाभ का फायदा उठा सकते है,
हालांकि ध्यान देने वाली बात ये है कि किसी भी प्रोपेर्टी को खरीदने के लिए काफी अधिक मात्रा में एक साथ पैसो की आवश्यकता होती है, साथ ही साथ आपको प्रोपेर्टी से RELATED DOCUMENT की बहुत अच्छी जानकारी होना भी जरूरी है,

4) EQUITY (STOCK MARKET)

अब हम बात करते है, निवेश के चौथे विकल्प के बारे में, जो है स्टॉक मार्केट, यानी NSE और BSE स्टॉक एक्सचेंज पर LISTED कंपनी के शेयर खरदना और बेचना,
स्टॉक मार्केट में निवेश के दो तरीके है,
1) Directly Buy Share
2) Buy mutual fund

Stock Market क्या होता है ?Stock मार्केट कैसे काम करता है?
Stock मार्किट से जुड़ी इस तरह की बहुत सी जानकारी आप हमारे Blog पर पढ़ सकते है,
यहाँ हम बात कर रहे है, स्टॉक मार्केट को निवेश के एक विकल्प के तौर पे समझने का, तो जहा तक स्टॉक मार्केट से मिलने वाले लाभ की बात है तो स्टॉक मार्केट से दो तरह के लाभ हो सकते है
1) डिविडेंड
2) पूँजीगत
और स्टॉक मार्केट में निवेश को रिस्क इसलिए माना जाता है, कि आपने जिस कंपनी शेयर खरीदते है, और अगर वो कंपनी अपना बिज़नेस सही से नही कर पाती है, उसको लाभ की बजाए नुकसान ज्यादा हो रहा है, ऐसे में आपको उस कंपनी के शेयर के भाव मे कमी आ जहर से पूंजीगत यानी आपकी पूंजी का नुकसान हो सकता है,
दूसरी तरफ किसी भी अन्य इन्वेस्टमेंट के विकल्पों में , स्टॉक में निवेश पर आपको सबसे अधिक लाभ की संभावना होती है, अगर पिछले 15 सालों की बात की जाए तो इण्डियन स्टॉक मार्केट ने औसतन 15% से ज्यादा CAGR लाभ दिया है,
और EICHER MOTORS, और INFOSYS, WIPRO, HDFC, SYMPHONY, AJANTA PHARMA और बहुत सारे दूसरे स्टॉक ने 50 से 100% तक CAGR लाभ दिया है,

ऐसे में एक बात बिल्कुल स्पष्ट है, निवेश में जितना अधिक रिस्क, उतना अधिक लाभ की संभावना होती है,

SUMMARY – Types of investment
अगर इन्वेस्टमेंट के विकल्पों (types of investment ) की अपनी बात को Summarize करे,
तो निवेश एक पैसो से संबंधित विषय है, और ऐसे में निवेश के बहुत सारे अलग अलग स्कीम देखने को मिलता है,
लेकिन निवेश से पूर्व आपको अपनी मेहनत के कमाए पैसो के निवेश से संबंधित RISK को हमेशा ध्यान में रखना चाहिये,
और अगर आप किसी भी निवेश और उस निवेश से जुड़ी RISK को लेकर असमंजस में है, तो बेहतर है आप वह निवेश न करे,
और निवेश का कुछ ऐसा विकल्प ढूंढे , जहा आप COMFORTABLE FEEL कर सके,

दोस्तों,
अगर ये आर्टिकल Types of investment अच्छा लगा तो अपना COMMENT करना और आर्टिकल SHARE करना न भूले,
दोस्तों, आज बस इतना ही, अब मिलते है अगले आर्टिकल में , तब तक के लिए ,

keep smiling, Keep learning and Keep Earning,

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *