चीटी और टिड्डा www.sharemarkethindi.com

चीटी और टिड्डा– पंचतंत्र कहानी- EMERGENCY PLAN

Print Friendly, PDF & Email

चीटी और टिड्डा– पंचतंत्र कहानी

चीटी और टिड्डा  दोस्तों, पंडित विष्णु शर्मा द्वारा लिखी गई पंचतंत्र की छोटी छोटी कहानिया हम सभी को बचपन से ही बहुत अच्छी लगती है,

चाहे सामान्य जीवन की बात हो या निवेश की –इन छोटी छोटी कहानियो से जीवन को बेहतर बनाने की बहुत बड़ी बड़ी सिख मिल जाती है,

निवेश के पंचतंत्र कहानियो की इस सीरिज में SHAREMARKETHINDI.COM की तरफ से आज हम एक ऐसी ही कहानी के बारे में बात करने जा रहे है,

कहानी का नाम है – चीटी और टिड्डा

चीटी और टिड्डा

गर्मी के दिन थे और उस तपती गर्मी में बहुत सारी चीटियों का एक झुण्ड कड़ी मेहनत करके आने वाले ठंढ के लिए भोजन का इकठा कर रहे थे,

चीटिया जिस रास्ते से अपना भोजन लेके जा रही थी, उसी रस्ते में टिड्डे भी रहते थे, उनमे से कुछ टिड्डे चीटियों की मेहनत देखकर हसने लगे – ये देखो बेचारी चीटिया, कितनी मेहनत कर रही है, और हम कितने मजे से रह रहे है, और एक टिड्डा चीटी से पूछा – तुम लोग आज को enJOY करने के बजाये, इतनी मेहनत क्यों कर रहे हो?

चीटी ने जवाब दिया – हम लोग अगर आज मेहनत नहीं करेंगे, तो आने वाली ठंढ में भोजन मिलना बहुत मुश्किल हो जायेगा, और इस वजह से हमें बहुत बड़ी परेशानी का सामना करना पड़ेगा, और बेहतर है कि तुम भी ENJOY कम करके थोडा काम कर लो,

लेकिन टिड्डे तो मस्ती में था, वो बोला – हमें काम करने की क्या जरुरत, जो होगा देख लेंगे,

और फिर कुछ महीनो बाद मौसम बदला और ठण्ड आ गई –

और चीटिया जिन्होंने अपने लिए मेहनत करके इस कड़ाके की ठण्ड में भी भोजन जमा करके रखा था, तो उनको किसी परेशानी का सामना करना पड़ा,

जबकि  टिड्डा जिनके पास इस ठण्ड में भोजन का कोई उचित प्रबंध नहीं था, वो धीरे धीरे भोजन की कमी होने से बीमार पड़े और और फिर जान से हाथ धोना पड़ा,

इस कहानी की सीख है – PLAN FOR EMERGENCY (आपातकालीन स्थिति के लिए EMERGENCY PLAN जरुर करे )

 चीटी और टिड्डा सीख– PLAN FOR EMERGENCY.

ठीक इसी तरह, हम सभी के जीवन में ऐसी कुछ परिस्थितिया आती है, जिनका अगर हमने समय रहते नहीं सोचा और प्लान नहीं किया तो हमें बहुत बड़ी बड़ी परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है,

जैसे – अचानक जॉब का छुट जाना, कोई बड़ी बीमारी या एक्सीडेंट , और ऐसी ही कुछ आपातकालीन परिस्थितियां,

हम सभी को इस तरह की अचानक से आने वाली मुसीबतों के लिए एक आपातकालीन फण्ड (CONTINGENCY FUND) की जरुर व्यस्था करनी चाहिए, ताकि इन अचानक से आने वाली किसी भी बड़ी मुसीबत का सामना करने के लिए हम पहले से तैयार हो,

और हम में से जो तैयार नहीं होगा, उसकी हालत पंचतंत्र की इस कहानी के टिड्डे जैसे भी हो सकती है,

दोस्तों,

उम्मीद करता हु, इस छोटी सी कहानी से आपको ये समझ आया होगा कि –

हम सभी को मुझे भी और आपको भी किसी भी तरह की आपातकालीन परेशानियों से बचने के लिए एक आपातकालीन फण्ड की व्यवस्था जरुर होनी चाहिए,

आपातकालीन फण्ड कम से कम कितना हो,

“अगर आपने हेल्थ क्लेम प्लान (INSURANCE PLAN) ले लिया है, तो आपको अपनी मंथली खर्च के कम से कम 6 गुना रकम, आपातकालीन के लिए जरुर बचा के रखना चाहिए”

या फिर “आप अपनी सुविधानुसार एक रकम निर्धारित कर EMERGENCY FUND की व्यवस्था जरुर करे”

दोस्तों, बचत, निवेश और स्टॉक मार्केट से समबन्धित बहुत सारी जानकारी आप हमारी इस ब्लॉग और वेबसाइट SHAREMARKETHINDI.COM पर पढ़ सकते है,

और ये छोटी सी कहानी और इसकी सीख अच्छी लगी तो नीचे अपना कमेंट जरुर लिखे,

थैंक्स फॉर रीडिंग,

सोने की अंडे देने वाली मुर्गी – पंचतंत्र और निवेश

कछुआ और खरगोश -पंचतंत्र की कहानी और निवेश

पंचतंत्र और निवेश- मुर्ख बंदर की कहानी

RAT RACE -MUST AND WORTH READING STORY

पैसो का पेड़ -THE MONEY TREE

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.