धन के नियम Dhan ke 5 Niyam final www.sharemarkethindi.com

धन के 5 नियम [ Top five Rules of Money ]

Zerodha

धन के नियम ( Rules of Money )

धन के नियम, सुनकर थोडा सा अजीब लग सकता है, खैर ये सही है कि ये नियम कोई पत्थर की लकीर नहीं है, बल्कि पुराने समय में कुछ अमीर लोगो द्वारा बताये गए वे नियम है , जिनको समय समय पर अलग अलग परिस्थितयो में ये धन के इन नियमो की जांच करने से पता चला है कि धन के ये नियम बहुत ही प्रभावकरी है,

ध्यान दीजिए कि – धन के ये 5 नियम बहुत पुराने है, लेकिन आज भी उतने ही प्रभावकारी है, जितना ये पुराने ज़माने में हुआ करते थे, आप पोस्ट पूरा पढ़कर, इन नियमो को समझकर इनका लाभ उठा सकते है,

धन का पहला नियम (First Rule of Money)

धन का पहला नियम हमें नियमित, निश्चित और अनुशाषित बचत के बारे में सिखाता है,

और ये नियम कहता है कि-

  1. धन उस आदमी के पास ख़ुशी खुशी आता है , और बढती मात्रा में आता है, जो व्यक्ति अपने कमाए धन के कम से कम 10 वे हिस्से का प्रयोग अपने तथा अपने परिवार के भविष्य लिए जायदाद बनाने में करता है,

ये नियम बहुत ही सिम्पल है, लेकिन नियम का सबसे महत्वपूर्ण पार्ट ये है कि – आप अपनी आमदनी से जितना भी बचत करना चाहते है, चाहे 10 % हो या 20 % या उस से ज्यादा,

बस आपको रेगुलर और अनुशाषित तरीके से without फ़ैल बचत करते रहना है,

ऐसा नहीं कि आपने 5 महीने तक बचत की और फिर उसके बाद कुछ महीने छोड़ दिया,

और फिर कुछ महीने बाद वापस बचत शुरू करने का सोचने लगे,

वास्तव में,

हम में से ज्यादातर लोग जिनके पास पैसे नहीं टिकते है, वो कुछ ऐसा ही करते है, वे पैसो की बचत शुरू तो कर लेते है लेकिन अपने बचत के साथ वे अनुशाषित नहीं रहते है,

जिसके कारण न तो उनके पास पैसे टिकते है, और इसलिए उनके पास पैसे आते और जाते रहते है,

ध्यान रखिए कि – इस सिंपल से नियम को अमल में लाने के लिए आपको अपनी कमाई को खर्च करते समय भावनाओ पर नियंत्रंण और अपनी आदतों में अनुशासन रखना बहुत जरुरी है,

तो चलिए, अब बात करते है –धन के दुसरे नियम के बारे में,

धन का दूसरा नियम (Second Rule of Money)

यह नियम बचत किये गए पैसे के अछे निवेश के विकल्पों की तलाश करने के बारे में है, ताकि आप अपने बचत के धन को बढ़ा सके,

और, इस तरह धन का ये दूसरा नियम ये कहता है कि –

  1. धन उस समझदार मालिक के लिए जमकर मेहनत करता है, जो इसके लिए लाभकारी काम खोजता है, यह मवेशियों की तरह तेजी से बढ़ता है,

धन का यह नियम ये कहता है कि – आपको सिर्फ पैसो की बचत ही नहीं करनी है बल्कि अपने बचत किये पैसे को अच्छे तरीके से निवेश करना है,

आपको अपने बचत के पैसे को एक बड़े पेड़ का बीज समझ सकते है, बचत का पैसा आपको छोटा लग सकता है लेकिन ध्यान रखीए कि बड़े से बड़े पेड़ का बीज बहुत छोटा ही होता है,

आप अपने बचत को एक अच्छे निवेश में लगाकर, इसे बहुत बड़ा कर सकते है, और ये भी ध्यान रखिए,

कि जिस तरह एक बड़ा पेड एक दिन में नहीं बनता, समय लगता है,

आप आज ही पौधा लगायेंगे और कल फल की आशा करना मुर्खता है, आपको इस बात को समझना होगा कि –

“जल्दी आने वाला धन और दौलत जल्दी ही चला जाता है “

लेकिन अपने मालिक को ख़ुशी और संतुस्टी देने वाली स्थायी दौलत धीरे धीरे आती है, क्योकि यहाँ ज्ञान और सतत संकल्प का फल होता है,

और इसलिए और आपके निवेश का पैसा भी धीरे धीरे ही बढेगा, आपको अपने धन के निवेश को बहुत अधिक बढाने के लिए समय देना होगा,

इसलिए, इस नियम के अनुसार,

जब आप एक बार धन बचाना शुरू कर देते अहै तो आपको उस बचाए गए धन से और धन कमाने के लिए, अपनी पूंजी की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए अच्छे निवेश की तलाश करनी होगी,

तो चलिए,अब बात करते है, धन के तीसरे नियम के बारे में,

धन का तीसरा नियम (Third Rule of Money)

धन का ये तीसरा नियम, धन के मालिक को सावधानीपूर्वक निवेश करने के बारे में सिखाता है, और साथ ही निवेश में पूंजी की सुरक्षा, और निवेश में अनुभव के महत्व,को भी बताता है,

इस तरह धन का तीसरा नियम ये कहता है कि –

  1. धन उस सावधान मालिक के संरक्षण में रहता है, जो इसका निवेश सिर्फ समझदार लोगो की सलाह से करता है,

धन का सावधान मालिक किसी को भी धन उधार देने से पहले या किसी भी तरह के निवेश से पहले इस बात को सुनिश्चित करना चाहता है कि – उसका मूलधन सुरक्षित रहे, और उसका उधार दिया गया या निवेश किया गया पैसा लालच और लापरवाही के कारण डूबे नहीं,

और इसी नियम के आधार पर इस दुनिया के सबसे बड़े निवेशक और आमिर आदमी वारेन बफे ने निवेश का एक नियम बताया है –

और नियम कुछ ऐसा है कि –

निवेश के दो नियम है –

पहला – अपना पैसा (पूंजी) कभी गवाना,

दूसरा – पहला नियम कभी मत भूलना,

ध्यान दीजिए,

धन के इस तीसरे नियम का मतलब ये भी है कि

-धन के मालिक को बहुत अधिक सावधान रहना चाहिए, और हिसाब किताब के महत्व को हमेशा समझना चाहिए,

और हिसाब किताब रखने के मामले में कभी भी लापरवाही नहीं रखनी चाहिए, आप किसको कितना धन दे रहे है, क्यों दे रहे है, ये सब कुछ बहुत सोच समझकर किया जाना चाहिए,

तो चलिए,अब बात करते है –धन के चौथे नियम के बारे में –

धन का चौथा नियम (Fourth Rule of Money)

धन का चौथा नियम हमें ये सिखाता है कि –

आपको सिर्फ उसी निवेश में पैसे लगाने चाहिए, जिस निवेश के बारे में आपको अच्छी जानकारी और पर्याप्त अनुभव हो,

इस तरह धन का चौथा नियम ये कहता है कि –

  1. धन उस आदमी से दूर चला जाता है, जो इसका निवेश उन व्यवसायों या उद्देश्यों के लिए करता है,जिनसे वह परिचित नहीं है या जिनकी अनुशंसा समझदार लोग नहीं करते है,

इस नियम के अनुसार आपको कोई ऐसा बिज़नस या ऐसा निवेश नहीं करना चाहिए, जिनके बारे में आप अच्छी तरह से नहीं जानते हो,

ध्यान दीजिए कि – दुनिया में हजारो बिज़नस और हजारो निवेश है, और अगर आप कोइ निवेश या बिज़नस करना चाहते है, तो आपको सिर्फ और सिर्फ उस बिज़नस या निवेश के एक्सपर्ट आदमी से ही सलाह लेनी चाहिए,

आप सब्जी बेचने वाले से सोने के निवेश के बारे में सलाह नहीं ले सकते है , आपको अगर सोने में निवेश करना है तो आपको सोने के किसी अच्छे निवेशक से सलाह लेनी चाहिए,

धन का ये महत्वपूर्ण नियम ये भी सिखाता है कि –

हर बिज़नस और निवेश में कुछ रिस्क यानी खतरे होते है, इसलिए धन के मालिक को सिर्फ वाही बिज़नस शुरू करना चाहिए,

जिसके बारे में उसे बहुत अच्छी जानकारी और अनुभव हो,

आपने देखा होगा,

अक्सर नए बिज़नस सिर्फ इसीलिए फ़ैल हो जाते है और लोगो का पैसा डूब जाता है क्योकि लोग बिना पर्याप्त अनुभव और ज्ञान के ही बिज़नस शुरू कर देते है,

इस तरह इस नियम का एक लाइन में ये मतलब है कि –

अपनी बचत के धन का निवेश समझदारीपूर्ण ढंग से उन लोगो के मार्गदर्शन में करना चाहिए, जो धन को सँभालने के मामले में पहले ही निपुण है,

कहने का मलतब ये है कि –

अगर आप बिज़नस करना चाहते है – तो पहले बिज़नस का पर्याप्त अनुभव ले, और अगर आप किसी तरह का को निवेश करना चाहते है, तो उस निवेश की अच्छी जानकारी और अनुबव ले,

और

तो चलिए,अब बात करते है, धन के पांचवे नियम के बारे में,

धन का पांचवा नियम (Fifth Rule of Money)

धन का यह नियम हमें निवेश में अधिक रिस्क, लालच और हमेशा ललचाने निवेश ऑफर से बचे रहने के बारे में सलाह देता है, ताकि हमारा पैसा सुरक्षित तरीके से बढ़ता रहे,

और इस तरह धन का पांचवा नियम ये कहता है कि –

  1. धन उस आदमी से दूर चला जाता है, जो इसके माध्यम से असंभव आमदनी हासिल करना चाहता है, या जो चालबाज लोगो की लुभावनी सलाह मानता है, या जो इसे अपनी अनुभवहीनता और रूमानी इक्क्षाओ के अधीन निवेश करता है,

ध्यान दीजिए कि – जब आपके पास धन होता है, तो वह धन आपके पास बना रहे इसके लिए आपको बहुत सावधान रहना होता है, अधिक रिस्क उठाने से बचना होता है, लालच पर कण्ट्रोल करना पड़ता है, निवेश में छुपे रिस्क को समझना होता है,

ध्यान दीजिए कि , वैसे तो ज्यादतर लोगो के पास धन नहीं होता है, और जिनके पास धन होता है, या फिर जो लोग नए नए अमीर बनते है, खास तौर से उनके पास , चालबाज और धूर्त लोग या धोकेबाज कंपनिया बहुत शानदार ललचाने वाले प्लान लेकर आते है,

और धन का नया नया मालिक, जो इन चालबाज लोगो और फटाफट आमिर बनने वाले स्कीम के झांसे में आता है, जल्द ही उनको अपने धन से हाथ धोना पड़ जाता है,

इसलिए,

धन के मालिक को – फटाफट अमीर बनने वाले स्कीम से बचना चाहिए,

किसी भी तरह के निवेश में छूपे रिस्क को समझना चाहिए, और

सावधान रहते हुए निवेश से पहले पूंजी की सुरक्षा, जोखिम को ध्यान में रखते हुए उचित लाभ के बारे में ही सोचना चाहिए,

तभी वह आदमी, लम्बे समय अमीर बना रह सकता है,

वर्ना, फिर पैसे आते रहेंगे और जाते रहेंगे,

तो ये थे वे धन के पांच नियम, जिनको समझकर और अमल में लाकर आप अपने खाली बैंक अकाउंट को धीरे धीरे भरना शुरू कर सकते है, और फिर अपने बचत के पैसे का सुरक्षित निवेश करके लम्बे समय में खूब ढेर सारा धन बना सकते है,

फिर आपकी पैसे नहीं टिकने वाली सबसे बड़ी प्रॉब्लम आटोमेटिकली दूर हो जायेगी,

दोस्तों,

जैसे मैंने पहले कहा – ये नियम बहुत ही सिम्पल है, लेकिन फिर भी हो सकता है कुछ लोग इन नियमो को समझने के बजाये, इस नियम पर सवाल उठाएंगे,

उन्हें याद रखना चाहिए कि ये सिर्फ अन्य नियमो की तरह नियम है, और ये नियम कोई जादू की छड़ी नहीं है जो कुछ दिनों में सब कुछ बदल जायेगा,

आर्थिक स्थिति में बदलाव के लिए आपको इन नियमो को समझने के साथ साथ लगातार इनका रियल लाइफ में पालन भी करना होगा,

सिंपल सी बात ये है कि – ये नियम सिर्फ उनके लिए ही काम करेगा जो इसे समझकर अपनी जिदंगी में अपनानाने की कोशिस करेंगे,

तो अगर आप अपनी आर्थिक स्थिति में बदलाव चाहते है – तो आपको इन नियमो को अच्छे से समझकर अमल में लाना होगा,

साथ ही मै आपको ये बता दू कि – इस पोस्ट में मैंने जिस धन के नियम के बारे में बताया है, वो दरअसल आज से कई हजारो साल पहले बेबीलोन शहर में रहने वाले, सबसे अमीर आदमी अर्काद ने अपने पुत्र नोवाजिर को बताई थी, और जिसका जिक्र Mr. Georje Calson द्वारा लिखित पुस्तक “द रिचेस्ट मैन इन बेबीलोन” में किया गया है,

धन के विषय पर ये एक बहुत ही शानदार किताब है, इस किताब में ऐसी बहुत सी बाते है जो एक आम इन्सान को धन के बारे में छोटी छोटी कहानियो के माध्यम से सिखाती है, और हमें फाइनेंसियली आगे बढ़ने में हेल्प करती है,

तो अगर आप इस किताब को पढना चाहे, आप इस किताब का हिंदी में अमेज़न से खरीद सकते है ,

हिंदी में इस किताब का नाम दिया गया – बेबीलोन का सबसे अमीर आदमी,

अमेज़न से इस किताब को खरीदने का लिंक – https://amzn.to/2OKwEE5


धन के नियम का ये पोस्ट कैसा लगा, कमेंट करके जरूर बताये,

5 Paisa

4 Comments

  1. Thakur Aman Singh September 28, 2018
  2. vikram thakur September 30, 2018
  3. deepak August 5, 2019
  4. Ajay Pratap Singh August 19, 2019

Comment on This Post

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.