Exchange Traded Fund - ETF Kya Hota Hai - 1 www.sharemarkethindi.com

EXCHANGE TRADED FUND- ETF क्या होता है

Print Friendly, PDF & Email

EXCHANGE TRADED FUND

EXCHANGE TRADED FUND जिसे SHORT में ETF भी कहा जाता है,

आज के इस टॉपिक में हम इसी ETF के बारे में जानेंगे –

ETF क्या होता है ?  ETF और सामान्य म्यूच्यूअल फण्ड में क्या समानता और क्या अंतर है? ETF कितने प्रकार का होता है ?  ETF के क्या फायदे है? और ETF इतना पोपुलर क्यों है?  ETF में कैसे निवेश किया जा सकता है ?आइए सबसे पहले बात करते है?

ETF क्या होता है ?

EXCHANGE TRADED FUND यानी ETF एक ऐसे BASKET OF SECURITES की तरह होता है, जो STOCK EXCHANGE में सामान्य स्टॉक की तरह ट्रेड होता है,

ETF में निवेश, निजी स्टॉक ट्रेडिंग और म्यूच्यूअल फण्ड, दोनों से मिलता जुलता निवेश का बेहतरीन विकल्प है,

ETF किसी स्टॉक एक्सचेंज के INDEX में शामिल ,अलग अलग स्टॉक में उसी अनुपात में निवेश करता है, जिस अनुपात में अलग अलग स्टॉक उस इंडेक्स में शामिल किये गए है,

जैसे – NIFTY 50 एक INDEX है , और इस तरह NIFTY 50 ETF एक निफ्टी इंडेक्स पर आधारित फण्ड है, जो केवल NIFTY INDEX में शामिल 50 स्टॉकस में से किसी स्टॉक में निवेश करेगा, और जिस अनुपात में कोई स्टॉक निफ्टी 50 के इंडेक्स में शामिल है, उसी अनुपात में फण्ड का पैसा, उस स्टॉक में लगाया जायेगा,

और इस तरह निफ्टी 50 ETF में उतार चढाव उसी अनुपात में होगा, जिस अनुपात में निफ्टी 50 के इंडेक्स में होगा,

ETF एक स्टॉक मार्केट के शेयर की तरह LISTED, म्यूच्यूअल फण्ड होता है, जिसकी डेली बेसिस पे ट्रेडिंग होता है,

नार्मल म्यूच्यूअल फण्ड में दिन के ख़तम होने पर स्टॉक का प्राइस या UNDERLYING ASSET की वैल्यूएशन के बेसिस पे NAV को कैलकुलेट किया जाता है, और उस NAV के BASE पर म्यूच्यूअल फण्ड की खरीद और विक्री होती है,

लेकिन ETF की सुविधा द्वारा आप REALTIME में स्टॉक मार्केट में चल रहे भाव के आधार पर उस ETF को खरीद और बेच सकते है, अगर किसी दिन मार्केट में 5% का उतार चढाव आता है, तो जब भाव कम है तभी निवेशक उस ETF को खरीद सकता है, और जैसे ही भाव बढ़ जाता है, वो उसे बेचकर लाभ कमा सकता है,

ETF (EXCHANGE TRADED FUND) और म्यूच्यूअल फण्ड में समानता

1. एक तरफ EXCHANGE TRADED FUND एक म्यूच्यूअल फण्ड की तरह है ,जो निवेशको से लिए गए पैसो को किसी खास इंडेक्स के शेयर्स या किसी दुसरे Asset class में निवेश करता है,

2. जिस तरह आप म्यूच्यूअल फण्ड में छोटे छोटे निवेश करके एक डाइवर्सिफाइड पोर्टफोलियो में निवेश का लाभ ले पाते है, वैसे ही ETF में निवेश से भी आपको इस तरह के DIVERSIFED पोर्टफोलियो का लाभ मिलता है,

ETF (EXCHANGE TRADED FUND)और म्यूच्यूअल फण्ड में अंतर

1.सामान्य म्यूच्यूअल फण्ड को स्टॉक मार्केट में बेचा और ख़रीदा नहीं जा सकता लेकिन ETF की  खरीद और विक्री किसी स्टॉक की तरह ही स्टॉक मार्केट पर किया जा सकता है,

  1. सामान्य म्यूच्यूअल फण्ड में निवेश के लिए आपको DEMAT ACCOUNT की आवश्यकता नहीं होती लेकिन ETF में निवेश के लिए आपको ट्रेडिंग और DEMAT अकाउंट की जरुरत होती है,
  2. म्यूच्यूअल फण्ड किसी फण्ड मेनेजर द्वारा ACTIVE रुप से खूब सारा रिसर्च करके स्टॉकस में निवेश किया जाता है, इस तरह सामान्य म्यूच्यूअल फण्ड एक ACTIVLY MANAGED FUND है,

जबकि ETF को किसी एक्टिव फण्ड मेनेजर की आवश्यकता नहीं होती, ETF किसी खास INDEX के अन्दर आने वाले ASSET में INDEX की बनावट के अनुसार ही काम करता है, और इस तरह ETF एक PASSIVE MANGAED FUND है,

  1. ETF में निवेश करने के ऊपर लगने वाली फीस यानी खर्च, किसी अन्य सामान्य म्यूच्यूअल फण्ड में लगने वाले खर्च से काफी काम होता है,
  2. ETF को खरीदने और बेचने, दोनों समय हमें ब्रोकरेज फीस देना होता है, जबकि म्यूच्यूअल फण्ड खरीदने पर हमें EXIT FEES देना होता है, और फण्ड को मैनेज करने के लिए म्यूच्यूअल फण्ड फीस भी देना होता है,
  3. ETF को हम रियल टाइम स्टॉक मार्केट प्राइस पर खरीद और बेच सकते है, जबकि सामान्य म्यूच्यूअल फण्ड को हम DAY TRADING नहीं कर सकते है, और इसमें हमें NAV के मूल्य पर ही खरीदना और बेचना होता है,

ETF (EXCHANGE TRADED FUND)कैसे खरीदते है?

मान लीजिए आप, देश के सबसे लोकप्रिय ETF GOLDMAN SACHS NIFTY BeEs खरीदना चाहते है,

तो आपको अपने ब्रोकर को GS NFITY BeEs ETF खरीदने का आर्डर देना होगा,

और ब्रोकर स्टॉक से खरीदेगा और एक बार लेन देन पूरा हो जाने पर, वो ETF आपके DEMAT ACCOUNT में आ जायेगा,

लेकिन इस ETF में आने वाले स्टॉक का स्वामित्व गोल्डमन सैक के पास ही रहेगा,जो ETF का स्पोंसर कहलाता है,

ETF (EXCHANGE TRADED FUND) के प्रकार

ETF तीन प्रकार के होते है-

  1. EQUITY ETF – LargeCap ETF, Midcap ETF, Mutlicap ETF,
  2. DEBT ETF
  3. COMMODITY ETF- GOLD ETF

ETF (EXCHANGE TRADED FUND)  के क्या फायदे है?

  1. Diversification
  2. TRADED ON STOCK MARKET
  3. LOW FEES
  4. REAL TIME NAV (MARKET PRICE)
  5. TAX BENEFITS
  6. BENETIS OF INDEX INVESTMENT
  7. TRANSPARENCY IN HOLDINGS – DAILY

ETF (EXCHANGE TRADED FUND)इतना पोपुलर क्यों है?

ETF एक कम खर्च में किसी भी देश के स्टॉक इंडेक्स में किया जाने वाला निवेश का विकल्प है, किसी देश का इंडेक्स उस देश के सबसे अच्छे और मजबूत कंपनी के शेयर से मिलकर बना होता है,

और इस तरह ETF में निवेश से पुरे स्टॉक मार्केट के सबसे अच्छे कंपनी में निवेश का लाभ मिल जाता है, जो कि एक आम निवेशक या बड़ी निवेशक कंपनी सभी को अच्छा लगता है,

और यही कारण है कि ETF इतना पोपुलर निवेश है,

नेशनल स्टोक एक्सचेंज NSE पर ETF LIST – NSE ETF LIST

दोस्तों,

आर्टिकल अच्छा लगा तो नीचे अपना कमेंट या सवाल जरुर लिखे,

ध्यांवाद

 

MUTUAL FUND – हिंदी गाइड पार्ट -1 

 History of Mutual Fund  हिंदी गाइड पार्ट -2

म्यूच्यूअल फण्ड के फायदे – हिंदी गाइड पार्ट -3

 म्यूच्यूअल फण्ड कैसे बनाया जाता है- हिंदी गाइड पार्ट -4

म्यूच्यूअल फण्ड में NAV क्या होता है ? हिंदी गाइड पार्ट -5

Types of Mutual Fund- हिंदी गाइड पार्ट 6

म्यूच्यूअल फण्ड में जमा पैसा कैसे निकाले,– हिंदी गाइड पार्ट 7

2 Comments

  1. HARSHAD PATEL August 30, 2018
    • Deepak Kumar August 30, 2018

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.