हमारी सैलरी कितनी होनी चाहिए www.sharemarkethindi.com

हमारी सैलरी कितनी होनी चाहिए? MINIMUM REQUIRED INCOME

Print Friendly, PDF & Email

हमारी सैलरी कितनी होनी चाहिए?

हमारी सैलरी कितनी होनी चाहिए ये सवाल थोडा हटके है, और काफी इंटरेस्टिंग भी….

क्योकि, हम में से बहुत कम लोग, अपनी इनकम, या सैलरी को पाकर, ये कह सकते है कि –

मेरी सैलरी, या मेरा इनकम, बिल्कुल उतना ही है, जितना कि मुझे चाहिए,


क्योकि वास्तव में,  हम में से बहुत कम लोगो को पता होंता है कि – हमारी सैलरी कम से कम कितनी होनी चाहिए?

दोस्तों, अक्सर हमें यही लगता है कि – फ़िलहाल मेरी सैलरी थोड़ी कम है, और अगर मेरी सैलरी 20% बढ़ जाये तो मजा आ जाये,

जैसे – मान लीजिए – एक बंदा है, जिसकी सैलरी है -20 हजार,

और उसे लगता है कि, उसकी सैलरी कम है, और अगर उसकी सैलरी 20 % बढ़ जाये, तो उसे बहुत ख़ुशी होगी, और उसकी सभी प्रोब्ल्म सोल्व हो जाएगी,


अब मान लीजिए कि – उसकी सैलरी 20 प्रतिशत से बढ़ जाती है, और अब उसकी सैलरी हो जाती है -24 हजार,

तो क्या लगता है आपको ?

उसकी प्रॉब्लम, कितने दिन तक के लिए सोल्व हुई,

शायद १ साल

या ज्यादा से ज्यादा २ साल तक के लिए

हो सकता है कि कुछ साल बाद उसको वापस ऐसा लगेगा कि –

उसकी सैलरी फिर से कम है, और उसकी सैलरी थोडा और ज्यादा कमाना चाहिए,

तभी वो कुछ बचत या निवेश कर पायेगा,


क्योकि सच्चाई ये है कि-

हमारी इनकम जैसे जैसे बढती है, तो हमारे खर्च भी उसी अनुपात में बढ़ते जाते है,

और इसी कारण हमारी सैलरी, समय के साथ – चाहे कितनी भी बढ़ जाये,

बचत और निवेश करने के लिए हमें अपना इनकम हमेशा कम ही लगेगा,


अब ऐसे में एक सवाल आता है कि –

आखिर हमें ये कैसे पता चले कि –हमारी सैलरी या हमारा इनकम, वास्तव में कितना होना चाहिए,

ताकि हम अपने सभी खर्चो को भी पूरा कर सके, अपनी लाइफ स्टाइल को भी मेंटेन करते रहे, और साथ ही अपने फ्यूचर के ,खर्चो के लिए, insurance, बचत और निवेश भी कर सके,


दोस्तों,

आज के इस आर्टिकल में हम  इसी प्रश्न के जवाब को, समझे कि कोशिस करेंगे-कि –

आखिर कैसे पता चले कि हमारी इनकम कितनी होनी चाहिए,

ताकि हम उतना कमाते हुए अपनी जिंदगी को मजे से जी सके,

 

हमें कितना कमाना चाहिए

दोस्तों,

हमें कितना कमाना चाहिए , ये जानने के लिए, हमें, सबसे पहले ये समझना जरुरी है कि हम जो कमाएंगे, उसे खर्च कैसे -कैसे करना चाहिए,

तो इसका जवाब है –

कि आम तौर पर हमें अपने इनकम से तीन तरह के खर्च करने होते है –

पहला खर्च होता है – बुनियादी जरुरत यानी बेसिक नीड के ऊपर

दूसरा खर्च होता है  – जीवन स्तर यानी लाइफ स्टाइल को बेहतर बनाने वाली जरुरतो पर,

और तीसरा खर्च होता है – भविष्य की सुरक्षा और फ्यूचर में लगने वाले बड़े खर्चो के लिए बचत और निवेश के ऊपर,

इस तरह हम देखते है कि –

हमें अपने इनकम से कितने तरह के खर्च करने होते है, तो जवाब है तीन तरह के खर्च के ऊपर,

बेसिक नीड, लाइफ स्टाइल नीड, और अपनी आर्थिक सुरक्षा के ऊपर,

अब एक बहुत महत्वपूर्ण सवाल है कि –

हमें इन तीन तरह के खर्चो में , किस किस तरह के खर्चो में में कितना- कितना खर्च करना चाहिए –

तो इसके जवाब में फाइनेंसियल एडवाइजर कहते है – कि –

हमें अपने इनकम से – 50 – 30 और 20 के रूल के अनुसार खर्च करने चाहिए,

यानि –

बुनियादी जरुरत यानी बेसिक नीड के ऊपर – 50%

लाइफ स्टाइल को बेहतर बनाने वाली जरुरतो पर, – 30 %

और तीसरा – बचत और निवेश के ऊपर 20 %

जैसे –

अगर मै कम से 100 रूपये कमाता हु,

तो मुझे अपने इनकम का 50 प्रतिशत हिस्सा –

यानि 50 रूपया अपने बेसिक नीड के ऊपर खर्च करना चाहिए,

और 30 % हिस्सा यानि 30 रूपये लाइफ स्टाइल को बेहतर बनाने वाली जरुरतो पर,

और अपने इनकम के 20% हिस्से यानि 20 रूपये को बचत और निवेश के ऊपर खर्च करने चाहिए,

 

तो इसी 50/30/20 के थंब रूल को ध्यान में रखते हुए अगर आप मुझसे पूछे कि –

मुझे कम से कम कितना कमाने की जरुरत है

तो इसका बिल्कुल आसान सा जवाब है –

मुझे अपने बुनियादी खर्चे , अपनी लाइफ स्टाइल के खर्चे, और बचत और निवेश के लिए आवश्यक रकम को, एक साथ जोड़ लेना है,

और जो भी कुल रकम आती है, उतना इनकम , मुझे कम से कम कमाने की जरुरत है,

जैसे – मान लेते है –

मेरी बसिक नीड में खर्च होते है – 15 हजार,

लाइफ स्टाइल के खर्च में लगते है – 9 हजार,

और बचत और निवेश के लिए चाहिए – 6 हजार,

तो इस तरह मुझे 15 + 9 + 6 = 30 हजार रूपये कमाने की जरुरत है,

अब सवाल आता है कि –

ये बुनियादी जरूरते और लाइफ स्टाइल के खर्चे और बचत और निवेश को किस तरह से समझा जाये,

तो आइये हम इन तीनो को अलग अलग समझते है –

सबसे पहले बात करते है –

बुनियादी जरुरत क्या होता है ?

दोस्तों बुनियादी जरूरते हमारी बेसिक नीड्स होती है, जो हमें जिन्दा रहने और अपनी मुलभुत जरुरतो को पूरा करने के लिए अनिवार्य रूप से खर्च करने होते है –

जैसे –

घर का राशन, घर का किराया या EMI, लाइट बिल, पानी बिल, फ़ोन बिल, किसी तरह के लोंन का इन्स्टालमेन्ट तथा मेडिकल दवाये, बच्चो की पढाई की फ़ीस और अन्य खर्चे,

अब बात करते है –

लाइफ स्टाइल के खर्चे

ये वो खर्चे है, जो हमें अपने समाज में,अपनी लाइफ स्टाइल को, मेंटेन करने के लिए, खर्च करने होते है,

इन खर्चो से हमें सामाजिक रूप से से ख़ुशी और आनंद मिलने की उम्मीद होती है,

जैसे –, अख़बार का बिल, टीवी विल, घर का नया सामान, नए ने कपडे, नया टीवी, नया फर्नीचर, नया मोबाइल, नए कपडे, और अन्य ऐसी चीजे जो हमें अपने सामाजिक लाइफ स्टाइल में बेहतर दिखने के लिए जरुरी होते है,

 

और अब बात करते है –

बचत और निवेश –

दोस्तों, हम सभी को , भविष्य में आने वाले किसी तरह के इमरजेंसी और दुर्घटनाओ के लिए हमेशा तैयार रहना चाहिए,

और इसलिए हम जो भी कमाते है, उसका एक हिस्सा बचत और निवेश में जाना चाहिए, ताकि हम अपने जीवन में आने वाले किसी भी तरह के आर्थिक संकट से बच सके,

और साथ ही बचत और निवेश करके फ्यूचर के बड़े खर्चो कि प्लानिंग करने की भी जरुरत होती है  – जैसे बच्चो कि पढाई लिखाई, उनकी शादी, अपना घर, गाडी, या फिर अपने रिटायरमेंट की प्लानिंग,

इस तरह बचत और निवेश हमारे इनकम से खर्च होने वाला एक बहुत महत्वपूर्ण पार्ट है,

और ये खर्च हमें  किसी तरह की इमरजेंसी के समय, बहुत काम आता है,

दोस्तों,

बचत और निवेश में इन चीजो को शामिल किया जाता है जैसे –

general insurance – Life insurance, Health Insurance, Property Insurance,

इसके अलावा बड़े खर्चो की प्लानिंग के लिए – रिटायरमेंट फण्ड में निवेश, बैंक की किसी योजना में निवेश, म्यूच्यूअल फण्ड और स्टॉक मार्केट में निवेश, सरकारी योजनाओ में निवेश, या फिर पैसिव इनकम और फाइनेंसियल फ्रीडम के लिए किया जाने वाला बचत और निवेश,

दोस्तों, अभी तक हमने इनकम से होने वाले खर्चो को अच्छे से समझ लिया,

अब आप आसानी से समझ सकते है और ये जान सकते है कि  –

आपको कम से कम कितना कमाने की जरुरत है?

और इसके लिए आपको तीन चीजे समझनी होती है,

पहला – आपकी बेसिक नीड का कितना खर्चा है,

दूसरा -लाइफ स्टाइल को बेहतर बनाने वाली जरुरतो में कितना खर्च हो सकता है,

और तीसरा –आप कितना अमाउंट बचत और निवेश में खर्च करना चाहते है,

और जैसे आपको इन तीनो बातो  का ठीक ठीक पता चल जाता है ,

तो आपको इन तीनो का total निकलना है,

और यही total आपको आपकी कम से कम आवश्यक इनकम के बारे में बताएगा,

अगर इसे फोर्मुले के रुप में सेट करे तो

कम से कम आवश्यक इनकम या सैलरी = BASIC NEED + LIFE STYLE EXP + SAVING AND 

INVESTMENT

तो इस तरह आप इस फोर्मुले का इस्तेमाल करके  आसानी से पता लगा सकते है कि – आपको कम से कम कितना कमाने की जरुरत है,

 

हमारी सैलरी कितनी होनी चाहिए -कम सैलरी की प्रॉब्लम

दोस्तों, प्रॉब्लम ये होता है, कि हम में से जायदातर लोग बिना इस फोर्मुले को समझे ही बस ज्यादा सैलरी और ज्यादा इनकम की चिंता करते है,

जबकि असली सवाल ये है कि – वास्तव में मुझे कम से कम कितने पैसे कमाने की जरुरत है, ताकि मै अपनी बेसिक नीड, अपनी लाइफ स्टाइल के खर्च और बचत और निवेश के लिए आवश्यक रकम हर महीने कमा सकू?

दोस्तों,

अगर आप सच में सीरियस है और आप जानना चाहते है कि – आपको कम से कम कितना कमाने की जरुरत है,

ताकि आप उतना पैसा कमाने के लिए पूरी मेहनत करे,

और इस बात को लेकर निश्चित रहे कि आपको जितना कमाने की जरुरत है, उतना आप कमा रहे है,और ज्यादा हाय तौबा करने कि जरुरत न हो,

तो आपकि सुविधा के लिए मैंने एक DESCRIPTION में एक एक्सेल फाइल का डाउनलोड लिंक दिया हुआ है,

आप इसे डाउनलोड करके, अपने मोबाइल या कंप्यूटर में  सेव कर सकते है,

हमारी सैलरी कितनी होनी चाहिए – DOWNLOAD

REQUIRED INCOME CALCULATION EXCEL SHEET DOWNLOAD LINK 

आप इस एक्सेल शीट में अपनी जरुरत के अनुसार कुछ घटा और बढ़ा कर ये कैलकुलेशन कर सकते है कि – आपको हर महीने कम से कम कितना इनकम कमाना चाहिए, जिस से कि आप एक टेंशन फ्री लाइफ जी सके,


हमारी सैलरी कितनी होनी चाहिए ये POST पूरा पढने के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद,

साथ ही अपने सवाल या पोस्ट पर अपनी राय को कमेंट करके जरुर बताइए,

No Responses

  1. Pingback: महंगाई क्या होती है [What is Inflation] - Share Market Hindi April 14, 2018

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.