how to invest in shares www.sharemarekthindi

How to invest in shares | शेयर में निवेश कैसे करे

Print Friendly, PDF & Email

How to invest in shares

दोस्तो, आज का हमारा Topic है, How to invest in shares,यानी Stock market में शेयर्स में कैसे निवेश किया जा सकता है? स्टॉक मार्केट में स्टॉक कैसे ट्रेड होते है,यानी स्टॉक कैसे ख़रीदे और बेचे जाते है,

अगर आपके मन मे भी How to invest in shares या स्टॉक कैसे Trade होते है , इस से सम्बंधित कुछ इस तरह के सवाल है, तो आप इस आर्टिकल को पूरा पढ़ते रहिये,
क्योंकि मैं आज आपसे इसी के बारे में बात करने वाला हु,

शेयर खरीदने या शेयर में निवेश के विकल्प –

शेयर खरीदने के हमारे पास दो विकल्प होते है-Two method of How to invest in share

1. प्राइमरी मार्केट (IPO)

PRIMARY MARKET जिसे हम IPO भी कहते है, IPO से शेयर खरीदने के लिए हमें डायरेक्टली कंपनी के पास अपने स्टॉक ब्रोकर या बैंक के माध्यम से कंपनी के स्टॉक खरीदने का एप्लीकेशन देना होता है, जिसे आईपीओ के लिए APPLY करना कहते है,

IPO में APPLY किये गए शेयर अगर कंपनी द्वारा मंजूर कर लिए जाते है, तो कंपनी हमारे DEMAT ACCOUNT में वो शेयर CREDIT कर देती है,और उन शेयर में हमारा निवेश हो जाता है, जब तक कि हम उन शेयर्स को किसी और का न बेचे .

2.सेकेंडरी मार्केट –(स्टॉक एक्सचेंज)

स्टॉक एक्सचेंज पर उपलब्ध शेयर में निवेश के लिए हमें स्टॉक एक्सचेंज से शेयर खरीदने होते है, स्टॉक एक्सचेंज से शेयर खरीदने के लिए हमें अपने ब्रोकर को शेयर खरीदने का आर्डर देना होता है,

आइये इसको एक EXAMPLE से समझते है –

मान लीजिए किशोर ने स्टेट बैंक ऑफ़ इंडिया के शेयर में निवेश करना चाहता है – तो उसे क्या करना होगा ?

निवेशक का काम –

  1. सबसे पहले किशोर जो की एक निवेशक है, उस के पास DEMAT ACCOUNT और TRADING ACCOUNT होना चाहिए,
  2. किशोर को अपने स्टॉक ब्रोकर द्वारा दिए गए ट्रेडिंग प्लेटफार्म (ट्रेडिंग टर्मिनल,मोबाइल एप्प,वेब ब्राउज़र) में अपने ट्रेडिंग अकाउंट के USER ID और PASSWORD के द्वारा LOG IN करना होगा,
  3. TRADING TERMINAL में किशोर को STATE BANK OF INDIA के SHARE खरीदने के लिए EQUITY सेक्शन में SEARCH करके उसे सेलेक्ट करना होगा,
  4. फिर किशोर को SBI SHARES BUY का आप्शन सेलेक्ट करके BUY ORDER देना होगा,

BUY ORDER देते समय कुछ DETAILS और देने होते है, जैसे – आप कितना शेयर खरीदना चाहते है – शेयर की संख्या, आप किस PRICE पर शेयर खरीदना चाहते है, किसी निश्चित भाव(LIMIT PRICE) पर खरीदना चाहते है या मार्केट में चल रहे PRICE पर (MARKET PRICE) पर , आप शेयर इंट्रा डे में TRADE करने के लिए लेना चाहते है, या स्टॉक की डिलीवरी अपने DEMAT ACCOUNT में लेना चाहते है,

  1. TRADING TERMINAL में आर्डर का DETAILS भरने के बाद किशोर को शेयर BUY करने का ORDER स्टॉक ब्रोकर को SUBMIT कर देता है,

इसके बाद आता है, स्टॉक BROKER का काम,

  1. स्टॉक ब्रोकर सबसे पहले ये चेक करता है, की आपने जो शेयर खरीदने का आर्डर उसे दिया है, क्या उतना FUND आपके ACCOUNT में है या नहीं?
  2. अगर किशोर के अकाउंट में जितने शेयर वो खरीदना चाहता है,अगर उतना FUND उसके अकाउंट में है, तो उसके आर्डर को VALID ORDER मानते हुए, स्टॉक ब्रोकर उसे आर्डर को स्टॉक एक्सचेंज के पास भेज देता है,

मान लीजिये किशोर 300 रूपये के भाव से SBI का 100 शेयर खरीदना चाहता है, तो इसके लिए उसके खाते में 300 X 100 = 30,000 रूपये के साथ साथ ब्रोकरेज और टैक्स का खर्चे के बराबर रकम होनी चाहिए, अगर अकाउंट में पर्याप्त FUND है तो किशोर का आर्डर स्टॉक ब्रोकर द्वारा स्टॉक एक्सचेंज को भेज दिया जायेगा,

इसके बाद आता है, STOCK EXCHANGE का काम,

  • जैसे ही कोई आर्डर स्टॉक EXCHANGE के पास आता है, स्टॉक एक्सचेंज के बड़े COMPUTER SERVER और ALGORITHM से SBI के 100 शेयर 300 रूपये से BUY करने के आर्डर को 300 रूपये पर बिकने के लिए आये आर्डर से मैच करके इस आर्डर को कम्पलीट कर दिया जाता है, और इसका कन्फर्मेशन स्टॉक ब्रोकर के माध्यम से शेयर खरीदने वाले शेयर खरीद लिए जाने का कन्फर्मेशन दे दिया जाता है,
  • यहाँ एक चीज ध्यान देने वाली है कि स्टॉक एक्सचेंज पर किशोर के SBI के 100 शेयर के आर्डर को स्टॉक एक्सचेंज में 100 शेयर बेचने वाले के आर्डर से ही मैच किया जाये, ये बिलकुल जरुरी नहीं,

शेयर खरीदने वाला एक आदमी हो सकता है, लेकिन बेचने वाला कोई एक भी हो सकता है, या कई अलग अलग लोग भी हो सकते है, यानि हो सकता है 10 बेचने वाले लोगो के आर्डर को मिला कर या 100 अलग अलग बेचने वाले लोगो को मिला कर , खरीदने वाले का आर्डर कोम्प्लते किया गया हो.

एक और चीज़ ध्यान देने वाली ये है कि खरीदने वाले का आर्डर पूरा होने के लिए मार्केट में वो शेयर बेचने वाले होने चाहिए, और खरीदने के लिए आर्डर कम्पलीट होने का समय इस बात पर DEPEND करंता है कि उस वक्त बेचने वाले कितने लोग है,

  1. शेयर खरीदने का आर्डर कम्पलीट होने के बाद एक आखिरी STEP होता है, क्लीयरिंग और सेटलमेंट, जिसके द्वारा शेयर बेचने वाले के अकाउंट से शेयर डेबिट करके खरीदने वाले के अकाउंट में क्रेडिट कर दिया जाता है, और इसके लिए लगते है, T+ 2 दिन, T यानि TRANSACTION का दिन और उसके अगले दो कामकाजी दिन,

यानि अगर आप सोमवार को कोई शेयर DELIVERY पर खरीदते है, तो आपको उस शेयर की डिलीवरी , सोमवार +2 दिन यानि बुधवार शाम तक आपके DEMAT ACCOUNT में शेयर क्रेडिट हो जाते है,

एक और चीज़ ध्यान दे कि इंट्रा डे में किसी तरह की कोई डिलीवरी नहीं होती है, यानि आपके DEMAT ACCOUNT में CREDIT हुए बिना ही आपको इंट्रा डे में जो शेयर खरीदते है, उसे आपको मार्केट बंद होने से पहले बेच देना होता है,

एक चीज ध्यान देने वाली है कि शेयर खरीदने का आर्डर देना और उस आर्डर का कम्पलीट होना, आज बहुत ही फ़ास्ट हो चूका है, या सिर्फ कुछ सेकंड या कभी कभी सेकंड से भी कम समय में आपका आर्डर कम्पलीट हो जाता है,

How to invest in shares – SUMMARY

अगर हम अपनी बात को SUMMARIZE करे तो, और अगर बात करे How to invest in shares , अगर आप शेयर में निवेश करना चाहते है, यानि आप शेयर खरीदने के बाद आप अपने DEMAT ACCOUNT में लम्बे समय के लिए HOLD करना चाहते है, तो आपको शेयर DELIVERY पर खरीदना होगा , और

डिलीवरी पर शेयर खरीदने के लिए अप्पको अपने Demat और Trading Account की मदद से आसानी से ट्रेडर द्वारा दिए गए ट्रेडिंग प्लेटफार्म, यानी मोबाइल एप्लीकेशन, PC सॉफ्टवेयर, या वेब ब्राउज़र में लाग इन करके, आप शेयर खरीदने या बेचने का आर्डर दे सकते है,

और जैसे ही आपका आर्डर कम्पलीट होता है, उसका कन्फर्मेशन मैसेज हमें मिल जाता है, और वो शेयर हमारे T+ 2 DAY में आपके Demat account में क्रेडिट हो जाते है,


आशा करता हु, कि आपको How to invest in shares या शेयर में कैसे निवेश करे इस के बारे में समझने में कुछ हेल्प हुआ होगा,

अगर आर्टिकल अच्छा लगा तो इसे नीचे अपना कमेन्ट करना न भूले,
दोस्तों,आज बस इतना ही, अब मिलते है अगले आर्टिकल में

तब तक के लिए, keep smiling, Keep learning and Keep Earning,

2 Comments

  1. Jitender Kumar January 13, 2018
    • Deepak Kumar January 13, 2018

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.