Income tax return in hindi www.sharemarkethindi.com

Income tax Return की जानकारी

Print Friendly, PDF & Email

Income Tax Return को लेकर एक आम आदमी के मन में बहुत सारे सवाल होते है, जैसे –

  • इनकम टैक्स रिटर्न क्या होता है?
  • सरकार इनकम टैक्स क्यों लेती है?
  • इनकम टैक्स के क्या क्या नियम है?
  • Income Tax Return किस को भरना होता है, और इसे कब तक भरना जरुरी होता है ?
  • और आखिर हमारे इनकम टैक्स रिटर्न भरने के क्या क्या फायदे है ?
  • और अगर हम इनकम टैक्स रिटर्न नहीं भरे तो इसका क्या परिणाम होगा ?
  • और आप इनकम टैक्स रिटर्न कैसे भर सकते है?

तो आज के इस पोस्ट में मै आपके साथ इन्ही सभी सवालों के बारे में डिटेल में बात करने वाला हु, तो अगर आप इनकम टैक्स रिटर्न की जानकारी को बिल्कुल आसान भाषा में समझना चाहते है तो इस पोस्ट को अंत तक जरुर पढ़े,

आइए, सबसे पहले बात करते है –

इनकम टैक्स रिटर्न क्या होता है?

Income Tax Return का हिंदी अर्थ होता है -आय कर विवरण,

कई सारे लोग इनकम टैक्स रिटर्न में , रिटर्न शब्द को लेकर कंफ्यूज रहते है कि – return का मतलब आखिर क्या है, क्योकि आम आदमी के लिए return का मतलब है – लौटना या लौटाना,

जबकि वास्तव में इनकम टैक्स रिटर्न में, रिटर्न का मतलब होता है – विवरण पत्र,

और इसलिए इनकम टैक्स रिटर्न का वास्तविक हिंदी अर्थ है –   आय कर विवरण पत्र,

हम सभी जानते है कि – इनकम टैक्स एक्ट १९६१ और १९६२ में बनाये नियमो के अनुसार सरकार हमारे आमदनी पर कर लगाती है, ताकि हम सभी की आमदनी से प्राप्त कर राशि का उपयोग समाज, राज्य और देश के आर्थिक हित के कार्यो में लगाया जा सके,

और सरकार ने आय से कर प्राप्त करने के लिए एक परमानेंट संस्था/विभाग  बना रखी है, जिसे इनकम टैक्स विभाग कहा जाता है, और यही विभाग भारत में आय कर के पुरे कार्य की देख रेख औ निगरानी करता है,

और इसी इनकम टैक्स विभाग के पास हमें अपनी आय के ऊपर टैक्स भरने के लिए, हमें अपनी आय का विवरण पेश करना होता है, जिसे इनकम टैक्स रिटर्न और हिंदी में आय का विवरण पत्र कहा जाता है,

इस तरह  बिल्कुल आसान भाषा में इनकम टैक्स रिटर्न को समझा जाये तो, Income Tax Return से हमारा मतलब होना चाहिए कि –

इनकम टैक्स रिटर्न के माध्यम से किसी व्यक्ति या संस्था या कंपनी द्वारा उसके कमाई की पूरी जानकारी सरकार के इनकम टैक्स विभाग तक पहुचाई जाती है,

और व्यक्ति या संस्था या कंपनी ने अपनी आमदनी के बारे में जो भी जानकारी दी है,

अगर वह आमदनी सरकार द्वारा इनकम टैक्स के स्लैब में आय कर से मुक्त श्रेणी में आता है तो उस व्यक्ति /संस्था या कंपनी को किसी तरह के इनकम टैक्स देने की जरुरत नहीं होती है,

और अगर व्यक्ति या संस्था द्वारा दी गई आमदनी की जानकारी, में व्यक्ति का आय इनकम टैक्स विभाग द्वारा तय आय कर मुक्त सीमा से अधिक की आमदनी हो रही है, तो इस अतिरिक्त होने वाली आदमनी पर हमें इनकम टैक्स एक्ट के नियम और इनकम टैक्स के स्लैब के अनुसार इनकम टैक्स चुकाना पड़ता है,

आइये जानते है कि –

सरकार इनकम टैक्स क्यों लेती है?

जैसे मैंने पहले कहा – सरकार इनकम टैक्स इसलिए लेती है, कि सरकार के पास सामाजिक कल्याण, समाज, राज्य और देश के विकास के लिए लगने वाले अपनी आर्थिक जरुरत को पूरा कर सके,

तो इस तरह इनकम टैक्स सरकार की कमाई का एक सीधा सीधा जरिया है, जिसके द्वारा सरकार को आमदनी प्राप्त होती है,

इनकम टैक्स के क्या क्या नियम है?

भारत में इनकम टैक्स एक्ट १९६१ और १९६२ के अनुसार ही काम होता है, और ये अधिनियम बहुत विस्तृत रूप से समझने के लिए आपको इन एक्ट को पढना और समझना होगा,

इनकम टैक्स एक्ट की कुछ मुख्य बातो की बात की जाये तो,

  1. सरकार द्वारा हर साल आम बजट पेश करते समय, इस बात की घोषणा करती है कि – भारत में कितनी आमदनी को आय कर से मुक्त रखा गया है, और कितनी आदमनी होने पर आपको किस दर से टैक्स चुकाना होगा,
  2. अपनी आमदनी का व्यौरा देना अनिवार्य है, अगर आप इनकम टैक्स स्लैब की आय कर मुक्त सीमा से अधिक कमाते है,
  3. इनकम टैक्स विवरण/इनकम टैक्स रिटर्न भरने के लिए सरकार द्वारा समय समय पर कुछ तारिख तय किए जाते है, और इस तय तारीख से पहले ही आपको अपने इनकम टैक्स का व्यौरा देना होता है,
  4. आपके द्वारा बताये गए आय के विवरण में त्रुटी पाए जाने पर आपको इनकम टैक्स की तरफ से कारण बताओ का नोटिस आ सकता है,
  5. इनकम टैक्स विवरण भरते समय आपको बहुत सावधानी बरतनी चाहिए,

Income Tax Return किस को भरना होता है, और इसे कब तक भरना जरुरी होता है ?

सबसे पहले आपको इनकम टैक्स बिभाग द्वारा घोषित इनकम टैक्स स्लैब को देख और समझे कि – क्या आपकी कमाई आय कर की सबसे कम सीमा से भी कम है तो आपको इनकम टैक्स रिटर्न भरने की कोई अनिवार्यता नहीं है,

लेकिन अगर आपका इनकम आय कर की न्यूनतम सीमा से अधिक् है तो आपके लिए इनकम टैक्स का रिटर्न भरना बहुत जरुरी हो जाता है –

फाइनेंसियल इयर २०१७-१८ और अस्सेस्मेंट इयर २०१८-२०१९ एक लिए आयकर के निम्न नियम बनाये गए है –

आप इसकी जानकारी इनकम टैक्स की वेबसाइट पर अपडेटेड रूप में चेक कर सकते है –

लिंक – https://www.incometaxindiaefiling.gov.in

और आखिर हमारे इनकम टैक्स रिटर्न भरने के क्या क्या फायदे है ?

इनकम टैक्स रिटर्न के के बहुत सारे फायदे है, जैसे – देश की सेवा और समृधि में योगदान,

और अगर हम इनकम टैक्स रिटर्न नहीं भरे तो इसका क्या परिणाम होगा ?

इनकम टैक्स रिटर्न नहीं भरने पर आपको इनकम टैक्स एक्ट के नियमो के अनुसार दण्डित भी किया जा सकता है,

और आप इनकम टैक्स रिटर्न कैसे भर सकते है?

इनकम टैक्स भरने के लिए अगर आप एकाउंटिंग और इनकम टैक्स विषयों से परिचित नहीं है तो आपको एक चार्टर्ड अकाउंटेंट की जरुरत पड़ सकती है, जो आपको आपके इनकम टैक्स का return भरने में मदद करता है,


तो, आज के इस पोस्ट में मैंने आपसे  Income Tax Return के बारे में बात की, अगर आपके मन में  Income Tax Return  या इस पोस्ट से जुड़ा कोई सवाल हो तो आप नीचे कमेन्ट करके पूछ सकते है,मै आपके सवालों का जवाब जरुर देने की कोशिस करूँगा,इस पोस्ट में आपको आगे और अपडेट मिलते रहेंगे,

पोस्ट पूरा पढने के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.