Intraday Trading

Print Friendly, PDF & Email

इंट्रा डे ट्रेडिंग (Intraday Trading)

इंट्रा डे ट्रेडिंग, जैसा कि नाम से समझ आ जाता है, एक दिन भर के अन्तराल (इंट्रा) में की जाने वाली खरीद और विक्री यानी ट्रेडिंग ,

किसी शेयर या स्टॉक को जिस दिन ख़रीदा जाये, उसी दिन उस शेयर को मार्केट बंद होने से पहले बेच भी दिया जाये, या अगर आप शार्ट सेलिंग करते है, तो मार्केट बंद होने से शेयर खरीद कर अपनी ओपन पोजीशन को क्लोज कर ली जाये, तो इस तरह कि Trading को इंट्रा डे ट्रेडिंग कहा (Intraday Trading) जाता है,

इंट्रा डे ट्रेडिंग को कई अन्य नामो से भी जाना जाता है –

जैसे – डे ट्रेडिंग, MIS (Margin Intraday Square off),

इंट्रा डे ट्रेडिंग (Intraday Trading) के फायदे –

  1. एक दिन का RISK होना

आप को इंट्रा डे ट्रेडिंग में सौदों को एक दिन में ही पूरा करना होता है, जैसे आज ख़रीदा तो आज ही बेचा ,और इस तरह आप सिर्फ एक दिन का ही रिस्क उठाते है,

  1. लाभ या हानी एक दिन में होना

आपको दिन भर के अन्दर ही लाभ या हानी हो जाता है, आपको ज्यादा समय का इन्तेजार नहीं करना होता है, 

  1. MARGIN MONEY की सुविधा मिलना

इंट्रा डे ट्रेडिंग में सभी ब्रोकर्स अपने ग्राहकों को इंट्रा डे ट्रेडिंग के लिए MARGIN MONEY देते है,

जैसे अगर आपके पास 10 हजार रूपये है , और आपका ब्रोकर 10 गुना MARGIN MONEY दे रहा है, तो आप 10 हजार का 10 गुना यानी 1 लाख तक के शेयर खरीद और बेच सकते है ,

अब मान लीजये आपके पास 10 हजार रुपए थे और आपने MARGIN MONEY का इस्तेमाल करके आपने 1 लाख का शेयर ख़रीदा, और आपने चूँकि इंट्रा में TRADE लिया है, 

अब ऐसे में तीन चीज़े हो सकती है,

  1. जब शेयर्स के भाव बढ़ जाये -(Price Go Up)

अब मान लीजिये कि मार्केट बंद होने के समय अगर आपने जो 1 लाख का शेयर लिया था, उसकी कीमत 1 लाख 1 हजार हो गई है, और आप उस बेचते है, तो आपको 1 हजार का लाभ होता है,

और आपके पास अब AMOUNT हो जाता है , 10 हजार जो आपका था और साथ में 1 हजार का लाभ यानी कुल 11 हजार, (जिसमे आपको ब्रोकर का फीस और शेयर खरीदने और बेचने का चार्जेज भी देना होता है,)

  1. जब शेयर्स के भाव घट जाये – (Price Go Down)

अब मान लीजिये कि मार्केट बंद होने के समय अगर आपने जो 1 लाख का शेयर लिया था, उसकी कीमत 99 हजार हो गई है, और आप उस बेचते है, तो आपको 1 हजार का नुकसान होता है,

और आपके पास अब AMOUNT हो जाता है , 10 हजार जो आपका था और साथ में 1 हजार का LOSS कम करने पर – 9 हजार, (जिसमे आपको ब्रोकर का फीस और शेयर खरीदने और बेचने का चार्जेज भी देना होता है,)

  1. जब शेयर्स के भाव उतने ही हो जितने पर आपने लिया – (No Price Change)

अगर मार्केट बंद होने के समय – अगर कोई price change नहीं होता है और  जो 1 लाख का शेयर लिया था, उसकी कीमत 1 लाख ही है, और आप उस बेचते है, तो आपको कोई फायदा नहीं होता है,

और आपके पास आपका AMOUNT ही बच जाता है , 10 हजार जो आपका था, (जिसमे आपको ब्रोकर का फीस और शेयर खरीदने और बेचने का चार्जेज भी देना होता है,)

ध्यान देने वाली बाते –

  1. अगर आप ब्रोकर से मार्जिन लेकर ट्रेड लेते है तो ऐसे में, आपको अपना सौदा उसी दिन पूरा करना होता है, मार्केट के बंद होने से पहले, अगर आप मार्केट बंद होने से पहले खुद सौदे को पूरा नहीं करते है तो मार्केट बंद के समय शेयर का भाव जो भी होगा, आपका ब्रोकर उसे बेचकर अपना मार्जिन मनी ले लेगा,
  2. ब्रोकर को आपको होने वाले फायदे या नुकसान से कोई लेना देना होना होता है, आपने जो भी मार्जिन मनी लिया हुआ, उसको उतना मार्केट बंद होने से पहले वो वापस चाहिए होता है,
  3. इंट्रा डे में मार्जिन मनी का इस्तेमाल बहुत सोच समझ कर करना चाहिए, क्योकि ये एक ऐसा हथियार है , जो दोनों तरफ चलता है, ये आपको अच्छा फायदा भी दिलाता है, तो साथ ही कभी आपको बहुत बड़े नुकसान में भी ले जाता है, और अक्सर एक नए स्टॉक मार्केट ट्रेडर का पहला loss इंट्रा डे में ही होता है,
  4. Intraday Trading आपको तभी करना चाहिए जब आपको स्टॉक मार्केट में कम समय में होने वाले उतार चढाव के बारे में कुछ बेहतर जानकारी हो, लेकिन अक्सर लोग इसका उल्टा करते है, नया निवेशक Intraday Trading सबसे पहले करने की कोशिस करता है,
  5. Intraday Trading बनाने का सबसे बड़ा कारण, मार्केट में शोर्ट टर्म में होने वाले उतार और चढाव को ध्यान में रखते हुए किया गया है,

39 Comments

  1. Ashwani January 31, 2018
    • Deepak Kumar January 31, 2018
  2. parag mishra February 5, 2018
    • Deepak Kumar February 5, 2018
  3. rahul May 31, 2018
    • Deepak Kumar June 12, 2018
  4. dinesh kumar July 17, 2018
    • Deepak Kumar July 17, 2018
  5. RAVINDER SHARMA July 28, 2018
    • Deepak Kumar July 28, 2018
  6. Kapil July 28, 2018
    • Deepak Kumar July 28, 2018
    • Deepak Kumar July 28, 2018
  7. shaikh iliyas August 11, 2018
  8. Yogesh August 26, 2018
  9. Mrutyunjaya September 7, 2018
  10. Tarun September 8, 2018
    • Deepak Kumar September 8, 2018
  11. Arrow September 17, 2018
  12. Raj September 17, 2018
  13. Bhoopesh Yadav September 17, 2018
  14. Rajput September 25, 2018
    • Deepak Kumar September 25, 2018
  15. aman October 6, 2018
  16. shaikh iliyas October 7, 2018
  17. Bishambhar patel October 10, 2018
    • Deepak Kumar October 10, 2018
  18. Bishambhar patel October 11, 2018
  19. Bishambhar patel October 11, 2018
    • Deepak Kumar October 11, 2018
  20. Bishambhar patel October 11, 2018
  21. Rohan A October 17, 2018
    • Deepak Kumar October 17, 2018
  22. praveen jha November 20, 2018
    • Deepak Kumar November 20, 2018
  23. Hemraj November 21, 2018
    • iqbal December 16, 2018
  24. akshay November 30, 2018
  25. iqbal December 16, 2018

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.