STOCK MARKET-VALUE INVESTING AND GROWTH INVESTING

Print Friendly, PDF & Email

STOCK MARKET INVESTING क्या होता है? 

Stock Market Investing करने में सबसे बड़े नाम INDIA में जो आता है वो राकेश झुन्जुनवाला, और अमेरिका के वारेन वफे, अन्य भी बहुत सारे लोग है जिन्होंने Stock Market Investing बहुत सारी सफलता हासिल की है , लेकिन एक छोटे Investment से एक बहुत बड़ा पोर्टफोलियो बनाने के सम्बन्ध में इनके नाम सबसे ज्यादा लिए जाते है, 

अगर बात की जाये तो  Investing in Stock Market की, तो Market में Investor वो होता है जो  किसी कंपनी के शेयर्स इस उम्मीद के साथ खरीदता है कि भविष्य में उसके भाव बढ़ेंगे, और वो अपने Shares के ऊपर अपने अपेक्षित भाव तक वृद्धि के लिए इन्तेजार करता रहता है, शेयर्स के भाव में वृद्धि के लिए एक Investor ज्यादा समय यानी एक साल से लेकर कई सालो तक का इन्तेजार कर सकता है,  

इस तरह के INVESTOR जो एक लम्बे समय के लिए अपना पैसा STOCK MARKET में लगाते है, वैसे INVESTOR दो तरह के होते है,

  1. VALUE INVESTOR
  2. GROWTH INVESTOR

VALUE INVESTING – वैल्यू इन्वेस्टिंग

VALUE INVESTING का उद्देश्य, उभरती हुई उद्योग और उभरती हुई INDUSTRY की पहचान करना होता है जो FUTURE में बहुत ज्यादा विकास करने वाली है,

वैल्यू इन्वेस्टिंग द्वारा, FUTURE में बहुत ज्यादा विकास करने वाले क्षेत्रो(सेक्टर), में आज काम शुरू करने वाली कंपनियों में, FUNDAMENTALLY अच्छी कंपनी की पहचान करके, उनमे LONG TERM INVESTMENT करके बहुत अधिक लाभ कमाया जाता है।

अगर आपको आज ये पता चल जाये की एक कंपनी है, जो आने वाले भविष्य में INFOSYS की तरह ही DEVELOPMENT करने वाली है, तो आप वैसी कंपनी में एक LONG TERM INVEST करके बहुत सारा पैसा बना सकते है, VALUE INVESTOR ऐसी कंपनी की पहचान करने में लगे रहते है, और जैसे ही उन्हें ऐसा मौका मिलता है,वो उन कंपनियों के विकास के शुरुआत में ही INVESTMENT कर देते है,  

भारत में इसका सबसे बड़ा उदाहरण है – 1990 में हिंदुस्तान यूनिलीवर, इंफोसिस, जिलेट इंडिया जैसी कंपनियों में वैल्यू इन्वेसिंग के लिहाज से LONG TERM INVESTMENT के लिए इनके शेयर्स खरीदना । इन कंपनियों ने भारत और विश्व मे LIFE STYLE और TECHNOLOGY में हुए बदलाव की वजह से इतना अधिक विकास किया जिसकी सिर्फ कल्पना की जा सकती थी, इन कंपनियों के शेयर धारकों ने 10000 रूपये के INVESTMENT से भी करोडो रूपये बनाये है।

GROWTH INVESTING – ग्रोथ इन्वेस्टिंग

GROWTH INVESTING का उद्देश्य, उन कंपनियों में INVEST करना है, जो FUNDAMENTALLY अच्छी कंपनी है, और लगातार अच्छा काम कर रही है, लेकिन कभी कभी MARKET में किसी NEGATIVE NEWS या SHORT TERM में कुछ आर्थिक नीति , कंपनी के MANAGEMENT में या किसी भी अन्य वजह से कुछ समय के लिए उस COMPANY के SHARES के भाव गिर गए हो ,उन INDUSTRY और COMPANY की पहचान करके उसमे INVESTMENT करना करके लाभ कमाना  होता है, 

STOCK MARKET में अच्छी से अच्छी COMPANY भी कभी कभी किसी वजह से  कुछ समय के लिए अच्छा PERFORMANCE नहीं कर पाती है, और उनके शेयर्स के भाव गिर जाते है, GROWTH INVESTOR ऐसे COMPANY की तलाश में रहते है , जिस में वे INVEST करके अच्छा लाभ कमा सके,

भारत में इसका सबसे बड़ा उदाहरण है – 8 NOVEMBER 2016  में  500 और 1000  रूपये  के नोट बंदी के समय, लगभग सभी कंपनी के शेयर्स के भाव गिर  गए थे ,ये समय GROWTH INVESTOR के लिए INVESTMENT करके लाभ कमाने का समसे अच्छा समय था, जिन लोगो ने भी उस वक्त अच्छी कंपनियों INVESTMENT किया उन्होंने अगले 3-4 महीने के अन्दर उन्होंने 25% से 50% तक लाभ कमाया,

STOCK MARKET में ऐसे मौके आते रहते है,  जहा पे VALUE INVESTMENT और GROWTH INVESTMENT के मौके आते रहते है, जो लोग इन मौको को समझ पाते है, वो निश्चित ही अच्छा पैसा बना पते है.

Investment

No Responses

  1. Pingback: Passive Income पैसिव इनकम क्या होता है - SHARE MARKET HINDI November 14, 2017

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.