OPEN ENDED MUTUAL FUND www.sharemarkethindi

OPEN ENDED MUTUAL FUND

Print Friendly, PDF & Email

OPEN ENDED MUTUAL FUND

OPEN ENDED MUTUAL FUND – आज हम इस टॉपिक में OPEN ENDED MUTUAL FUND को समझने की कोशिस करेंगे, और जानेगे कि ओपन एंडेड म्यूच्यूअल फण्ड क्या होता है? OPEN ENDED MUTUAL FUND की खास बाते क्या है और इस में निवेश के क्या क्या फायदे है?

कोई भी MUTUAL FUND, अपनी संरचना (Structure) और MATURITY PERIOD के हिसाब से दो प्रकार के होते है-

  1. OPEN ENDED MUTUAL FUND
  2. CLOSE ENDED MUTUAL FUND

ओपन एंडेड म्यूच्यूअल फण्ड क्या होता है ?

कोई भी म्यूच्यूअल फण्ड दो तरह का हो सकता है, OPEN ENDED या CLOSE ENDED

OPEN ENDED MUTUAL FUND जैसा कि नाम से ही स्पस्ट है कि, इस तरह के म्यूच्यूअल फण्ड में निवेशक के लिए ENTRY (खरीदने) और EXIT (बेचने) का कोई निश्चित समय नहीं होता, और ये बिल्कुल ओपन होता है, निवेशक कभी भी ENTRY ले सकता है और कभी भी EXIT कर सकता है,

जब किसी म्यूच्यूअल फण्ड में, इस तरह Entry और Exit की कोइ समय सीमा नहीं होती, तो ऐसे म्यूच्यूअल फण्ड को OPEN ENDED MUTUAL FUND (ओपन एंडेड म्यूच्यूअल फण्ड) कहा जाता है,

OPEN ENDED MUTUALFUND में म्यूच्यूअल फण्ड कंपनी को नए UNIT जारी करने का कोई प्रतिबन्ध नहीं होता, ध्यान देने वाली बात ये है कि ज्यादातर MUTUAL FUND इस तरह के OPEN ENDED होते है,

लेकिन साथ ही साथ एक OPEN ENDED फण्ड में जमा पैसे जब बहुत ज्यादा हो जाते है, तो म्यूच्यूअल फण्ड मैनेजर ,फण्ड को मैनेज करने की अपनी सुविधा के अनुसार उस फण्ड को CLOSE ENDED FUND में बदल सकते है,

और इस तरह एक बार कोई FUND जब CLOSE ENDED FUND हो जाती है, तो उसमे नए निवेशक की ENTRY पर प्रतिबन्ध लग जाता है,

OPEN ENDED MUTUAL FUND की खास बाते

आइये ओपन एंडेड म्यूच्यूअल फण्ड की कुछ विशेषताओ और उसके खास बातो पर नजर डालते है –

  1. ओपन एंड फण्ड में निवेशक के ENTRY और EXIT पर कोई प्रतिबन्ध नहीं होता.
  2. OPEN ENDED फण्ड में उसके UNIT की खरीद और विक्री म्यूच्यूअल फण्ड की NAV पर होती है,
  3. OPEN ENDED म्यूच्यूअल फण्ड में कंपनी जितने चाहे उतने नए म्यूच्यूअल फण्ड के यूनिट (UNIT) जारी कर सकती है, यूनिट की संख्या पर किसी तरह का कोई प्रतिबन्ध नहीं होता.
  4. OPEN ENDED MUTUAL FUND कभी कभी इतना बड़ा हो जाता है कि उस म्यूच्यूअल फण्ड निवेश के उद्देश्यों को पूरा करने के लिए उसके मैनेजर को ये निर्णय लेना होता है कि इस ओपन फण्ड को क्लोज़ एंडेड फण्ड में बदल दिया जाये,

OPEN ENDED MUTUAL FUND में निवेश के फायदे

आइये अब ओपन एंडेड म्यूच्यूअल फण्ड में निवेश के फायदों पर नजर डालते है-

  1. LIQUIDITY – ओपन एंडेड म्यूच्यूअल फण्ड में निवेश का सबसे बड़ा फायदा ये होता है कि निवेशक जब चाहे अपने निवेश को NAV PRICE पर बेचकर उस निवेश को CASH कर सकता है, और इस तरह OPEN ENDED MUTUAL FUND में निवेश LIQUIDITY के लिहाज से बहुत ही सरल और सुविधाजनक है,
  2. निवेश की राशी और समय- ज्यादातर ओपन एंडेड म्यूच्यूअल फण्ड में समय की कोई सीमा नहीं होती, और निवेश करने की राशी भी छोटी होती जो एक आम निवेशक के लिए काफी सुविधाजनक निवेश होता है,
  3. NAV PRICE IS FINAL PRICE –ओपन एंडेड म्यूच्यूअल फण्ड में NAV उसका FINAL PRICE होता है, जिसके ऊपर उस म्यूच्यूअल फण्ड के यूनिट ख़रीदे और बेचे जाते है, और इस तरह NAV ही इसका FINAL PRICE होता है,
  4. ओपन एंडेड म्यूच्यूअल फण्ड की खरीद और विक्री –ओपन एंडेड म्यूच्यूअल फण्ड की खरीद और विक्री उसके NAV यानी BOOK VALUE पर होती है, और DIRECTLY कंपनी द्वारा ही म्यूच्यूअल फण्ड यूनिट्स को REDEEM किया जाता है, यानी OPEN ENDED MUTUAL DIRECTLY कंपनी द्वारा ख़रीदा और बेचा जाता है,

OPEN ENDED MUTUAL FUND – APPLICATION और SUMMARY

इस पोस्ट में हमने OPEN ENDED म्यूच्यूअल फण्ड के बारे में जाना, इस तरह अगर जो भी हमने जाना, उस जानकारी को जहा तक अमल में लाने की बात है तो

हमें इस बात को ध्यान में रखना चाहिए कि कोई म्यूच्यूअल फण्ड OPEN ENDED है, तो उसके क्या फायदे है,

और साथ ही अगर हम कोई निवेश करना चाहते है, जिसमे हमें बेहतर LIQUIDITY चाहिए, तो हमें ओपन एंडेड म्यूच्यूअल फण्ड में निवेश करना चाहिए.

 दोस्तों, अगर आर्टिकल अच्छा लगा, तो नीचे अपना कमेंट या सवाल जरुर लिखे,

आर्टिकल पढने के लिए आपका धन्यवाद 

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.