Return on Investment (ROI) WWW.SHAREMARKETHINDI.COM

Return on Investment (ROI) क्या होता है | CAGR कैसे कैलकुलेट किया जाता है?

Print Friendly, PDF & Email

Return on Investment (ROI)

Return on Investment (ROI)- निवेश और आर्थिक दुनिया में RETURN का अर्थ होता है – लाभ यानी PROFIT

और ROI का फुल फॉर्म होता है – Return on Investment (ROI)

यानि किसी इन्वेस्टमेंट से होने वाला लाभ,

इन्वेस्टमेंट और लाभ- Return on Investment (ROI)

लाभ क्या होता है, हम सभी समझते है, लाभ हमें दो तरह से हो सकता है –

पहला – जब हम किसी सामान को कम कीमत पर ख़रीदे और उसे अधिक कीमत पर बेचे,

और दूसरा – जब हम किसी सामान को ज्यादा कीमत पर बचे और कम कीमत पर ख़रीदे,

और अब सवाल है – इन्वेस्टिंग क्या होता है ?

तो दोस्तों, इन्वेस्टिंग का हिंदी अर्थ होता है – निवेश,

और निवेश यानी इंवेस्टिंग अपने आप में एक प्रोसेस है – जब हम अपने बचत के पैसे ऐसी सम्पति खरीदते है, जिससे हम, अतिरिक्त पैसा यानि लाभ कमाना चाहते है, तो इस तरह की सम्पति को खरीदने में खर्च किया गया पैसा “निवेश” यानी इन्वेस्टमेंट कहलाता है,

दोस्तों ध्यान दे – इन्वेस्टिंग का मतलब है जब हम कोई सम्पति लाभ कमाने के मकसद से खरीदते है, चाहे वो संपत्ति वो रियल एस्टेट हो या पेपर एसेट,

जैसे – प्लाट खरीदना और बेचना, घर खरीदना और उसे किराये पर देकर लाभ कमाना, या घर खरीदना और उसे बेच कर लाभ कमाना, इसके आलावा बैंक में फिक्स्ड डिपाजिट, म्यूच्यूअल फण्ड खरीदना, स्टॉक या शेयर खरीदना,

INVESTMENT एक लॉन्ग टर्म प्रोसेस है,

INVESTMENT एक लॉन्ग टर्म प्रोसेस है, और ज्यादातर इन्वेस्टमेंट तुरंत लाभ नहीं देते, हमें इंवेस्टिंग करने के बाद INVESTMENT VALUE बढ़ने या इन्वेस्टमेंट से लाभ कमाने के लिए समय का इन्तेजार करना पड़ता है, ताकि हमारे ख़रीदे गए इन्वेस्टमेंट का भाव बढ़ जाये, और हम ज्यादा भाव पर उसे बेच कर लाभ कमाए,

जैसे – अगर हम बैंक में फिक्स्ड डिपॉजिट करते हैं तो हमें फिक्स डिपाजिट के लॉक इन पीरियड तक वेट करना पड़ता है फिर हमें उस फिक्स्ड डिपॉजिट से लाभ प्राप्त होता है,

ठीक ऐसे ही जब हम कोई प्लाट या मकान खरीदते है, तो उसके भाव बढ़ने का इन्तेजार करते है, और भाव बढ़ जाने पर उस प्लाट या घर को बेच कर लाभ कमाते है,

इन्वेस्टमेंट पर लाभ -Return on Investment (ROI)

हम जो भी निवेश करते है, उसका मुख्य उद्देश्य होता है –कम से कम पूंजी के निवेश पर ज्यादा से ज्यादा लाभ कमाना,

और किस निवेश से हमें कितना लाभ हो रहा है, इस समझने के लिए ROI यानी RETURN ON INVESTMENT को समझना बहुत जरुरी हो जाता है,

इसलिए आज के इस आर्टिकल में हम ROI के बारे में डिटेल में बात करेंगे –और जानेगे कि ROI कैसे कैलकुलेट किया जाता है ? और दो निवेश के लाभ की तुलना करते समय हमें कौन सा ROI इस्तेमाल करना चाहिए,

Return on Investment (ROI) क्या होता है

किसी निवेश से मिलने वाले लाभ को ,उस निवेश का Return on Investment (ROI) कहते है, और short में इसे ROI कहते है,

ROI से हमें ये पता चलता है कि – निवेश की गई पूंजी पर हमें किस अनुपात, यानी किस RATIO में लाभ हो रहा है,

जैसे – मान लीजिए

SBI फिक्स्ड डिपाजिट पर 7% व्याज देती है, यानी SBI फिक्स्ड डिपाजिट के निवेश पर मिलने वाला वार्षिक लाभ है – 7% ,

तो इस तरह हम कह सकते है कि – SBI फिक्स्ड डिपाजिट में निवेश से मिलने वाला RETURN ON INVESTMENT यानि ROI है – 7 %

Return on Investment (ROI) -एक प्रतिशत होता है

ध्यान दीजिए कि – RETURN ON INVESTMENT को पुरे साल में होने वाले लाभ के प्रतिशत के रूप में जाना जाता है,

आप एक बार फिर ध्यान दीजिए – Return on Investment (ROI) पुरे साल में किसी निवेश से मिलने वाले लाभ को प्रतिशत के रूप में निकाला जाता है,

ROI के फायदे

दोस्तों, आम तौर पर Return on Investment (ROI) को हमेशा प्रतिशत के रूप में व्यक्त किया जाता है, जिस से कि अलग अलग निवेशो पर आसानी से इस बात का पता लगाया जा सके कि किस निवेश से ज्यादा लाभ हो रहा है और किस से कम –

जैसे –मान लीजिए SBI के फिक्स्ड डिपाजिट में ROI है -7 % , और मान लीजिए SBI BLUE CHIP म्यूच्यूअल फण्ड से मिलने वाला लाभ यानि ROI है – 15%

तो इस तरह जब इन दोनों निवेश के ROI हमारे सामने है, और ऐसे में हम बहुत आसानी से समझ सकते है, कि SBI BLUE CHIP म्यूच्यूअल फण्ड का ROI ज्यादा है और उस से हमें ज्यादा लाभ मिल सकता है,

आइये अब बात करते है कि –

ROI कैलकुलेट कैसे किया जाता है –

दोस्तों- ROI कैलकुलेट करने के दो तरीके है –

पहला – ABSOLUTE RETURN और दूसरा कंपाउंड अनुअल ग्रोथ रेट return

ABSOLUTE RETURN -ROI

ABSOLUTE RETURN को साधारण लाभ की तरह से निकाला जाता है, जिसमे समय को महत्व नहीं दिया जाता है, सिर्फ निवेश से मिलने वाले लाभ को प्रतिशत के रुप में दिखा दिया जाता है,

और ABSOLUTE RETURN निकालने का फार्मूला है =

Ending Period Value / Starting Period Value – 1]*100

जैसे – मान लीजिए, मैंने एक घर 10 लाख रुपये में ख़रीदा और उसे 12 लाख रूपये में बेच दिया,

तो मुझे कितने प्रतिशत का लाभ हुआ?

ये जानने के लिए अगर हम ABSOLUTE RETURN निकालेंगे,तो इस सौदे का ABSOLUTE RETURN होगा = ( 12,00,000/10,00,000)-1)*100

= (1.2-1)*100

=.2*100=20%

ABSOLUTE RETURN के अनुसार 10 लाख रूपये के निवेश पर 20 % का लाभ, जो कि काफी अच्छा लगता है, क्योकि 20 % का profit बहुत अच्छा माना जाता है,

Compound Annual Growth Rate (CAGR)

CAGR, किसी निवेश पर होने वाले लाभ, के सम्बन्ध में हमें इस बात की सुचना देता है कि – कोई निवेश प्रति वर्ष कितने प्रतिशत से, COMPOUNDING तरीके से बढ़ रहा है ,

CAGR में किसी निवेश से होने वाले प्रति वर्ष AVERAGE लाभ की वृद्धि को, प्रतिशत के रूप में निकाला जाता है, ध्यान दीजिए कि – CAGR हमेशा कोम्पौन्डिंग GROWTH को बतलाता है, और CAGR निकालने का फार्मूला है –

{(Ending Period Value / Starting Period Value)^(1/N)} – 1]*100}

यहाँ N का अर्थ है – वर्ष , NUMBER OF YEAR,

जैसे – ABSOLUTE RETURN में बताये गए EXAMPLE को CAGR RETURN में निकाल कर देखते है,

मान लेते है, मैंने जो घर 12 लाख में बेचा, वो घर मैंने २ साल पहले 10 लाख में ख़रीदा था,

तो इस तरह मुझे दो साल में 2 लाख का फयदा हुआ,

तो अब इसी लाभ को CAGR के फोर्मुले से RETURN निकालेंगे, तो लाभ होगा –

((12,00,000/10,00,000) ^1/2)-1)*100

= [(1.2^.5)-1]*100

= [1.09544512-1]*100

=.0954*100=9.54%

तो देखा आपने, ABSOLUTE RETURN के अनुसार हमें लग रहा था, कि हमें इस सौदे पर 20 % का लाभ हुआ, जो कि बहुत बड़ी गलफहमी क्रिएट कर देता है

क्योकि जैसे ही हमने इस सौदे में CAGR RETURN, निकाला तो हमें हकीकत का पता चल गया कि –

हमें वास्तव में प्रतिवर्ष सिर्फ 9.54% CAGR का ही लाभ हो रहा है,

निवेश पर लाभ निकालने का BEST तरीका

इस तरह आप निवेश पर लाभ, इन दोनों तरीको से निकाल सकते है,

लेकिन ध्यान दीजिए कि – जब भी आप कीसी निवेश से मिलने वाले लाभ को कैलकुलेट करे, तो CAGR का ही इस्तेमाल करे,

क्योकि, जैसा हमने इस EXAMPLE में देखा –

ABSOLUTE RETURN के अनुसार 20 प्रतिशत का लाभ बताता है, क्योकि इसमें समय को शामिल नहीं किया गया है,

और जैसे हमने समय को शामिल करके CAGR निकाला तो हमें वास्तविक स्थिति का पता चल गया,कि ये लाभ 2 साल में हुआ है, और सिर्फ 9.54% का ही लाभ हो रहा है,

तो दोस्तों, जब भी आप अलग अलग निवेश पर मिलने वाले लाभ की आपस में तुलना करे, तो ध्यान रखे दो निवेशो पर होने वाले लाभ को COMPARE करते समय हमेशा CAGR का ही इतेमाल ही करे,

ताकि आपको निवेश के वार्षिक COMPOUNDING वृद्धि के बारे में, वास्तिवक लाभ का पता चल सके,


दोस्तों,

आशा है इस आर्टिकल से अच्छी तरह से इस बात को समझ पाए होंगे कि – अलग अलग निवेश पर मिलने वाले लाभ को कैलकुलेट कैसे कीया जाये और दोनों की आपस में कैसे तुलना की जाये,

दोस्तों, आप अपने सवाल या विचार को कमेंट में जरुर लिखिए ,


  1. निवेश क्या है? (What is Investing?)
  2. निवेश की जरुरत क्यों है? (Why Investment is needed?)
  3. निवेश कहा करे? (Where to Invest?)
  4. कौन सा निवेश सबसे अच्छा है? (Which Investment is better?)
  5. निवेश से पहले ध्यान रखने वाली बाते (Things to care before Investing)

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.