स्टॉक मार्केट और कमोडिटी मार्केट में अंतर

स्टॉक मार्केट और कमोडिटी मार्केट में अंतर

Print Friendly, PDF & Email

स्टॉक मार्केट और कमोडिटी मार्केट

स्टॉक मार्केट और कमोडिटी मार्केट दोनों ही फाइनेंसियल मार्केट है, एक तरफ स्टॉक मार्केट में पूरी तरह से  फाइनेंसियल प्रोडक्ट जैसे – शेयर, और सिक्योरिटी की ट्रेडिंग की जाती है, जबकि कमोडिटी मार्केट में कमोडिटी जैसे –तेल, सोना, चांदी से जुड़े फाइनेंसियल प्रोडक्ट आदि की ट्रेडिंग की जाती है,

इसलिए ये कहा जा सकता है कि – स्टॉक मार्केट और  कमोडिटी मार्केट, दोनों भी, है तो एक जैसे ही, लेकिन इन दोनों मार्केट में ट्रेड किये जाने वाले प्रोडक्ट थोड़े अलग अलग है,

और इस तरह स्टॉक मार्केट और कमोडिटी मार्केट थोड़े से अंतर है, जो आज के इस आर्टिकल में मै आपके साथ स्टॉक मार्केट और कमोडिटी मार्केट के बारे में कुछ बेसिक अंतर के बारे में बताने जा रहा हु,

इस आर्टिकल से आप ये समझ पाएंगे कि – स्टॉक मार्केट और कमोडिटी मार्केट में बेसिक अंतर क्या है?

स्टॉक मार्केट के बारे में डिटेल में आप यहाँ क्लिक करके पढ़ सकते है – लिंक

स्टॉक मार्केट और कमोडिटी मार्केट में अंतर

1. ट्रेड होने वाले फाइनेंसियल/कमोडिटी प्रोडक्ट के वैधता का समय,

स्टॉक मार्केट और कमोडिटी मार्केट में ट्रेड होने वाले प्रोडक्ट के बीच , समय की वैधता का सबसे बड़ा अंतर होता है, जैसे – अगर आप स्टॉक मार्केट से किसी कंपनी का स्टॉक खरीदते है, तो आप उसे अपनी मर्जी से जब तक चाहे तब तक अपने पास Demat account में रख सकते है,

जबकि अगर आप कमोडिटी मार्केट से आप कमोडिटी जैसे – सोना, चांदी, तेल के कॉन्ट्रैक्ट खरीदते है तो उसे आपको एक निश्चित समय पर, उस सौदे को बेचना होता है, कमोडिटी मार्केट में फ्यूचर कॉन्ट्रैक्ट्स और आप्शन कॉन्ट्रैक्ट में सौदे यानि ट्रेड किये जाते है, और फ्यूचर कॉन्ट्रैक्ट्स और कॉन्ट्रैक्ट्स आम तौर पर एक महीने से लेकर ३ महीने तक के लिए होते है,

यानि, अगर आप कमोडिटी मार्केट में अगर किसी सौदे में एंट्री करते है तो आपको वह सौदा तीन महीने के भीतर पूरा करना होगा,

जबकि, स्टॉक मार्केट में अगर आप फ्यूचर कॉन्ट्रैक्ट और आप्शन कॉन्ट्रैक्ट के सौदों को आपको, कमोडिटी मार्केट की तरह कॉन्ट्रैक्ट की एक्सपायरी डेट से पहले उन सौदों को पूरा करना होता है, लेकिन साथ ही अगर आप किसी भी कंपनी का स्टॉक खरीदते है, तो उस कंपनी के स्टॉक को आप जितने समय के लिए अपने Demat account में होल्ड कर सकते है,

तो इस तरह स्टॉक मार्केट और कमोडिटी मार्केट में, फाइनेंसियल प्रोडक्ट, के सौदे के समय का एक बहुत बड़ा अंतर होता है,

2. स्टॉक मार्केट और कमोडिटी मार्केट से होने वाले इनकम का अंतर,

स्टॉक मार्केट और कमोडिटी मार्केट में एक और सबसे बड़ा अंतर ये है कि स्टॉक मार्केट में ख़रीदे गए स्टॉक पर आपको डिविडेंड (लाभांश) का लाभ होता है,

जबकि कमोडिटी मार्केट में आपको डिविडेंड के इनकम का लाभ नहीं होता है, कमोडिटी मार्केट में आपको सिर्फ अपने ट्रेड पर प्रॉफिट या लोस होता है,

3.स्टॉक मार्केट निवेश है जबकि कमोडिटी मार्केट सिर्फ ट्रेडिंग है,

स्टॉक मार्केट और कमोडिटी मार्केट में एक और सबसे बड़ा अंतर ये है कि स्टॉक मार्केट में आप स्टॉक खरीद कर निवेश कर सकते है, और उस निवेश से आपको डिविडेंड और कैपिटल गेन का लाभ मिलेगा,

जबकि कमोडिटी मार्केट में आप शुद्ध निवेश नहीं कह सकते है, कमोडिटी मार्केट में आपको पूरी तरह से एक ट्रेडर की तरह से व्यवहार करना पड़ता है, ट्रेडर एक ट्रेड लेता है और उस ट्रेड को पूरा करता है,

इस तरह, कमोडिटी मार्केट में आप लम्बे समय के लिए निवेश नहीं कर सकते है, जबकि स्टॉक मार्केट में लम्बे समय के लिए निवेश किया जा सकता है,

4.स्टॉक मार्केट निवेश और कमोडिटी मार्केट के प्रोडक्ट की अलग अलग विशेषता है,

स्टॉक मार्केट में जहा हर कंपनी के स्टॉक की ट्रेडिंग होती है, और स्टॉक चाहे किसी भी कंपनी का हो, भाव कम या ज्यादा जरुर होता है, लेकिन होता स्टॉक है, और स्टॉक की विशेषताए एक जैसी होती है,

जबकि कमोडिटी मार्केट में कमोडिटी जैसे – सोना चांदी तेल अनाज की ट्रेडिंग होती है, और इस मार्केट में हर प्रोडक्ट की विशेषता अलग अलग होती है, जैसे सोने की विशेषता कुछ और चांदी की विशेषता कुछ और है जबकि तेल की विशेषता कुछ और है,

5.स्टॉक मार्केट और कमोडिटी मार्केट में प्रोडक्ट की सप्लाई

स्टॉक मार्केट में शेयर की ट्रेडिंग होती है, और शेयर हमेशा निश्चित मात्रा में ही किसी कंपनी द्वारा जारी किये जाते है, और इसलिए ऐसा कहा जा सकता है कि स्टॉक मार्केट में स्टॉक की सप्लाई लगभग निश्चित है, और इसलिए क्योकि स्टॉक लिमिटेड मात्रा में होते है, इसलिए कुछ लोग जानबूझकर साजिश करके किसी कंपनी के स्टॉक को घटा या बढ़ा सकते है,

जबकि कमोडिटी मार्केट में स्टॉक की  मात्रा की कोई निश्चित सीमा नहीं है, और इसलिए इसमें आसानी से किसी तरह की साजिश के बावजूद भी कमोडिटी के भाव को घटाना या बढ़ाना संभव नहीं है,


आशा है, इस पोस्ट से आप समझ पाए होंगे की स्टोक मार्केट और कमोडिटी मार्केट में मुख्य अंतर क्या है, अगर आपके मन में अभी भी कोई सवाल है तो आप नीचे कमेंट करके पूछ सकते है और अपने विचार की प्रतिक्रया भी कमेंट में लिख सकते है,

पोस्ट पूरा पढने के लिए आपका धन्यवाद.

One Response

  1. rajat singh tomar September 14, 2018

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.