Stock Market Crash होने के 5 प्रमुख कारण

Stock Market Crash होने के 5 प्रमुख कारण

Print Friendly, PDF & Email

Stock Market Crash होने का मतलब है, स्टॉक मार्केट में बहुत सारे शेयर के भाव अथवा मूल्यों में एक साथ तेजी से होने वाली गिरावट, Stock Market Crash होने की घटना बहुत महत्वपूर्ण घटना मानी जाती है, जैसे – साल 2008 में भारतीय स्टॉक मार्केट के साथ दुनिया के अन्य देशो के स्टॉक मार्केट में बहुत बड़ी गिरावट आई थी और ये एक बहुत बड़ा STOCK MARKET CRASH था.

ऐसे में स्टॉक मार्केट क्रैश होने के कारणों को समझना और इसके नुकसान तथा फायदों को समझना बहुत इम्पोर्टेन्ट हो जाता है,

इसीलिए आज के इस पोस्ट में, मै आपसे Stock Market Crash होने के अलग अलग कारणों के बारे में समझने की कोशिस करते है,

Stock Market Crash (स्टॉक मार्केट क्रैश )

Stock Market Crash की वैसे तो कोई निश्चित परिभाषा नहीं है, लेकिन अगर लगातार कुछ दिनों के अन्दर दोहरे अंको के प्रतिशत (Percentage in Double Digit ) में अगर गिरावट आ जाती है तो इसे स्टॉक मार्केट मंदी यानि stock market crash माना जाता है,

जैसे – अगर बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज के इंडेक्स SENSEX या फिर नेशनल स्टॉक एक्सचेंज के इंडेक्स NIFTY में कुछ दिनों के भीतर, आम तौर पर 1-10 के भीतर 10 प्रतिशत या उस से अधिक तक की गिरावट आ जाती है तो इसका मलतब स्टॉक मार्केट क्रैश हो रहा है. और मार्केट में मंदी बन आ चुकी है.

ध्यान देने वाली बात है कि – स्टॉक मार्केट के गिरने का कोई एक निश्चित कारण नहीं होता है, ऐसे बहुत से कारण हो सकते है, लेकिन उसमे कुछ प्रमुख कारण भी होते है, तो आइये अब स्टॉक मार्केट CRASH होने के उन प्रमुख कारणों को भी समझते है –

पहला कारण – सट्टेबाजी या अटकलबाजी (Speculation)

स्टॉक मार्केट में कुछ लोग सट्टेबाजी की तरह से इस्तेमाल करके पैसे बनाने की कोशिस करते है, सट्टेबाजी का मतलब है जुआ होता है, आप जब हारते है तो आप दाव पे लगा सब कुछ गवा देते है और जीतने पर आपको बहुत अधिक लाभ कमाने की उम्मीद होती है.

जब भी मार्केट लगातार लाभ देता है और उसमे लगातार तेजी बनी रहती है तो कुछ लोग मार्केट में बहुत बड़े लेवल में सट्टेबाजी करने लगते है, सट्टेबाजी करने से मार्केट में और तेजी बनने लगती है और फिर कुछ समय बाद जैसे ही सट्टेबाज लोग मार्केट से गायब होते है, फिर स्टॉक मार्केट में एक बड़ी गिरावट आ जाती है.

दूसरा कारण – राजनितिक अस्थिरता (Political Risks)

आपने देखा होगा जब भी चुनाव होता है, स्टॉक मार्केट पर इसका बहुत बड़ा असर होता है, जब सरकार स्थिर होती है और लोगो का उस सरकार में अधिक विस्वाश होता है तो मार्केट में इसका सकरात्मक असर होता है और तेजी बनने लगती है, लेकिन जैसे ही सरकार में स्थिरता आती है और राजनितिक फेरबदल होने की उम्मीद होने लगती है तो इसका सीधा असर स्टॉक मार्केट में पड़ता है और मार्केट तेजी से नीचे गिर जाता है.

सरकार की टैक्स निति, आर्थिक विकास, दुसरे देशो के साथ सम्बन्ध, इसी तरह के ऐसे बहुत से कारण है जिसका असर मार्केट पर होता है.

तीसरा कारण – आर्थिक मंदी (Economic Recession)

ये कहना मुस्किल है कि आर्थिक मंदी के कारण स्टॉक मार्केट क्रेश होता है या स्टॉक मार्केट क्रेश होने से आर्थिक मंदी आती है, लेकिन इतना जरुर है कि अगर स्टॉक मार्केट क्रेश कुछ लम्बे समय तक बना रहे तो आर्थिक मंदी आ ही जाती है. और आर्थिक मंदी अगर लम्बे समय से है तो स्टॉक मार्केट क्रेश हो सकते है.

चौथा कारण – लड़ाई (war)

दो देशो की लड़ाई या वर्ल्ड war जैसी स्थिति में स्टॉक मार्केट से लोग पैसे निकालने लगते है, जिस से स्टॉक मार्केट क्रेश हो जाता है,

जैसे – साल 2017 में भारत की सेना जैसे ही पाकिस्तान के साथ सर्जिकल स्ट्राइक किया, जो एक छोटी लड़ाई थी, लेकिन उस लड़ाई की वजह से दोनों देशो के स्टॉक मार्केट में एक बड़ी गिरावट आ गई थी, क्योकि लोगो में डर बन गया.

पांचवा कारण – वैश्विक आर्थिक मंदी (Global economy recession)

वैश्विक आर्थिक मंदी के असर से भी स्टॉक मार्केट क्रेश हो जाते है, साल 2008 इसका सबसे बड़ा एक्साम्प्ल है, जैसे ही अमेरिका के स्टॉक एक्सचेंज में क्रेश हुआ, उसका असर अन्य देशो के स्टॉक मार्केट पर पड़ा, और भारत पर भी इसका बहुत बुरा असर हुआ, और भारतीय स्टॉक मार्केट भी क्रेश हो गये,

तो दोस्तों ,

आज के इस पोस्ट में मैंने आपसे बात की stock Market crash होने के 5 प्रमुख कारणों के बारे, पोस्ट कैसा लगा इसके बारे में अपने सुझाव या सवाल नीचे कमेंट करके जरुर बताये.

पोस्ट पूरा पढने के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद.

 

 

 

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.