Technical Analysis

Technical Analysis और स्टॉक मार्केट

SHARE MARKET से होने वाले लाभों को देख कर,हमारा इसकी तरफ आकर्षित होना बिलकुल उचित है,

क्योकि हर कोई अपने बचत के पैसो का निवेश कर के ज्यादा से ज्यादा लाभ कमाना चाहता है,लेकिन इस बात को बिल्कुल भी IGNORE नहीं किया जा सकता कि SHARE MARKET जोखिम से भरा हुआ है,

शेयर बाजार कि सबसे बड़ी सच्चाई ये है कि – यहाँ हर कोई शेयर बाज़ार से लाभ कमाने के लिए ही ENTRY करता है, लेकिन  सिर्फ 10% लोग ही शेयर बाजार से सही तरह से पैसे बना पाते है, और बाकी 90 %  लोगो को LOSS होता है,

और यहाँ 90 % लोगो को LOSS होने का कारण है कि उन्हें ये पता नहीं होना कि –

  • शेयर्स कब ख़रीदे,
  • शेयर्स किस भाव में ख़रीदे
  • शेयर्स कितना ख़रीदे
  • शेयर्स कब बेचे
  • शेयर्स किस भाव में बेचे
  • शेयर्स कितना बेचे
  • और LOSS की स्थिति में अपने LOSS को कैसे नियंत्रित करे,

इन सभी बातो का पता लगाने के लिए हमें टेक्निकल एनालिसिस को सिखने और समझने की जरुरत होती है,

शेयर बाजार का RISK और RISK पे नियंत्रण 

वैसे तो पूरे शेयर बाजार में दो ही काम होता है, शेयर खरीदना और शेयर बेचना,अब यही सबसे मजेदार पार्ट भी है, और इस बाजार कि दूसरी सच्चाई और सबसे निराली बात ये है कि, किसी को भी ठीक ठीक नहीं पता कि, कोई शेयर्स कब खरीदना चाहिए, और कब बेचना चाहिए, यही इसका जोखिम पार्ट भी है,

बाजार में जोखिम इसी बात का है कि, किसी को भी ठीक ठीक नहीं पता कि कोई शेयर्स कब ख़रीदे, कितने भाव में ख़रीदे, और कब बेचे तथा कितने भाव में बेचे,

सारा जोखिम इसी बात का है,

क्योकि यहाँ कोई भी हमेशा 100 % सही नहीं हो सकता, और कोई भी ऐसा एक तरीका नहीं है जो सिख के हम ये कह सके कि हम शेयर बाजार के बारे में सब सिख चुके है, और हम शेयर बाजार में हमेशा फायदे में ही रहेंगे.

शेयर बाजार के जोखिम को नियंत्रित करने के उपाय –

हमने देखा कि शेयर बाजार में दो कम होते है – शेयर्स खरीदना और शेयर्स बेचना,

इन्ही दोनों से जुडी  कुछ मुख्य बाते है, जैसे –

शेयर खरीदना – शेयर कब ख़रीदे? कितने मूल्य में ख़रीदे? शेयर कितना ख़रीदे ?

शेयर बेचना – शेयर कब बेचे ? शेयर कितने मूल्य में बेचे ? शेयर कितना बेचे ?

साथ ही साथ LOSS कि दशा में, पूंजी कि सुरक्षा कैसे करे?

इन सब के  बारे में जानकारी रखने और उसे अमल में लाने से शेयर बाजार में  मौजूद जोखिम को नियंत्रित किया जा सकता है,और अपने पूंजी कि रक्षा के साथ साथ सही तरह से लाभ कमाने कि अपेक्षा की जा सकती है,

जैसा कि हम पहले ही स्पस्ट कर चुके है कि, कोई भी इन्सान हमेशा ठीक ठीक नहीं बता सकता कि , कोई शेयर कब ख़रीदना चाहिए, कितने में खरीदना, कितने में बेचना, और कब और कितना बेचना चाहिए,

लेकिन इसके कुछ उपाय है, जिसके द्वारा हम , शेयर्स के बारे में इस बात को कि , हम कब, किस मूल्य पर, और कितना शेयर बेचना चाहिए, इस बारे में अपना एक बेहतर POINT OF VIEW को हम अमल में लाकर, शेयर बाजार के जोखिमों को नियंत्रित कर, LOSS को कम करके लाभ को बढाया जा सकता है,

और इन उपायों के नाम है – FUNDAMENTAL ANALYSIS और TECHNICAL ANALYSIS

आइये, अब  बात करते है –  

TECHNICAL ANALYSIS के बारे में

जब हम किसी कंपनी का शेयर सिर्फ इस आधार पर देखते है, कि उसके भाव कब कब बढ़ जाते है और कब कब कम हो जाते है, और इस बात पर जोर नहीं दिया जाता कि कंपनी और उसके लाभ कमाने कि क्षमता कितनी STRONG है, यानी जब  सिर्फ शेयर के PAST PERFORMANCE को ध्यान में रखा जाता है तो इस तरह कि BUYING या SELLING को हम TECHNICAL  ANALYSIS के आधार पर खरीदना और बेचना कहते है,

और इस तरह हम कह सकते है कि,  FUNDAMENTAL ANALYSIS और TECHNICAL ANALYSIS आधार पर ही आप अच्छे तरीके से किसी शेयर के FUTURE PERFORMANCE का एक अनुमान बता सकते है,

इस सन्दर्भ में TECHNICAL ANALYSIS, शेयर्स के खरीदने का मूल्य, खरीदने का समय, कितना खरीदना और कब बेचना, कितना बेचना, कितने भाव में बेचना, स्टॉप लोस लगाना आदि के बारे में हमें बताता है,

और इसी लिए बड़े से बड़े INVESTOR भी  FUNDAMENTAL ANALYSIS और TECHNICAL ANALYSIS कि मदद से मार्केट में हो रहे बदलाव और शेयर्स के सौदों के बारे में बताते है कि हमें कब खरीदना और बेचना चाहिए ताकि ज्यादा से ज्यादा हम लाभ कमा  सके,

तो आइए टेक्निकल एनालिसिस सीखना शुरू करते है –

Technical Analysis – Introduction

  1. टेक्निकल एनालिसिस क्या है ?
  2. टेक्निकल एनालिसिस के क्या फायदे है ?
  3. टेक्निकल एनालिसिस की सबसे बड़ी विशेषता
  4. टेक्निकल एनालिसिस Assumption- अवधारणा
  5. टेक्निकल एनालिसिस के मूल तत्व
  6. टेक्निकल एनालिसिस- Chart
  7. टेक्निकल एनालिसिस – TREND

Candlestick chart and Pattern

  1. टेक्निकल एनालिसिस- Candlestick chart
  2. टेक्निकल एनालिसिस- Candlestick Pattern
  3. टेक्निकल एनालिसिस- MARUBOZU
  4. टेक्निकल एनालिसिस- SPINNING TOP
  5. टेक्निकल एनालिसिस- DOJI
  6. Paper Umbrella – Hammer (Single Candlestick Pattern)
  7. Paper Umbrella – HANGING MAN (Single Candlestick Pattern)
  8. Single Candlestick Pattern -SHOOTING STAR
  9. Multiple Candlestick Pattern – BULLISH ENGULFING PATTERN
  10. Multiple Candlestick Pattern – BEARISH ENGULFING PATTERN
  11. BULLISH HARAMI PATTERN
  12. BEARISH HARAMI PATTERN
  13. PIERCING PATTERN
  14. DARK CLOUD COVER
  15. GAP UP AND GAP DOWN OPENING CONCEPT
  16. The Morning Star Pattern – मोर्निंग स्टार
  17. The Evening Star Pattern – इवनिंग स्टार
  18. कैंडलस्टिक पैटर्न के सम्बन्ध में कुछ ध्यान देने वाली बाते

Advance Technical Analysis

  1. Support and resistance (S & R) क्या होता है?
  2. Volume (वॉल्यूम)- Technical Analysis
  3. Moving Average मूविंग एवरेज
  4. Exponential Moving Average ( EMA -एक्सपोनेंशियल मूविंग एवरेज
  5. Moving Average Crossover System
  6. Indicators [इंडीकेटर्स ] Technical Analysis
  7. RSI Relative Strength Index आर एस आई