ways to earn from stock market

स्टॉक मार्केट से लाभ कमाने के अलग अलग तरीके

Zerodha

स्टॉक मार्केट से लाभ कमाने के अलग अलग तरीके

स्टॉक मार्केट से लाभ कमाने के लिए सबसे पहले हमें ये समझना होगा कि स्टॉक मार्केट में दो सेगमेंट होते है,

पहला – Equity Market Segment जिसमे लिस्टेड कंपनी के शेयर ख़रीदे और बेचे जाते है …

और दूसरा – डेरिवेटिव Market Segment जिसमे शेयर और पर्टिकुलर इंडेक्स के फ्यूचर एंड आप्शन की ट्रेडिंग होती है ….

और जहा तक बात है कि स्टॉक मार्केट से लाभ कैसे कमाया जा सकता है या कितने तरीको से लाभ कमाया जा सकता है तो …

Equity Market Segment में आप मुख्य रूप से आप दो तरह से पैसे कमा सकते है ..

पहला – Equity Market Segment में इन्वेस्टिंग यानि निवेश से पैसे कमाए जा सकते है,और  दूसरा – Equity Market Segment में ट्रेडिंग यानि कंपनी की खरीद और विक्री से पैसे कमाना….

 

 स्टॉक मार्केट से लाभ -Equity Market Investment

 Equity Market Segment में स्टॉक मार्केट से लाभ कमाने के लिए अगर आप इन्वेस्टिंग करते है, तो इक्विटी मार्केट में  इन्वेस्टिंग से पैसे कमाने के 5 सबसे ज्यादा पोपुलर तरीके है

जिसमे सबसे पहला तरीका है –

  • Capital Appreciation

    जब आप लम्बे समय जैसे 1 साल या उस से ज्यादा समय के लिए किसी कंपनी के शेयर खरीदते है, और बाद में उस शेयर के भाव बढ़ जाने पर जब आप उसे बेचते है, तो इस तरह के प्रॉफिट को Capital Appreciation कहा जाता है …

जैसे – 100 रूपये का शेयर खरीदना और दो साल बाद उस शेयर की कीमत 150 रूपये हो जाने पर उसे बेच देना…

और Equity Market Segment से पैसे कमाने का दूसरा तरीका  है –

  • DIVIDEND से होने वाला लाभ

डिविडेंड का हिंदी अर्थ होता है – लाभांश,और सिम्पली डिविडेंड यानि लाभांश, किसी कंपनी द्वारा उसके शेयर पर दिया जाने वाला लाभ का हिस्सा होता है, जो कंपनी द्वारा अपने शेयरधारक यानि शेयर होल्डर को दिया जाता है …

जैसे – अगर आपके पास TCS कंपनी का शेयर है, तो आप TCS के शेयर होल्डर बन जाते है, और अगर TCS Per Share 10 रूपये का डिविडेंड देने का फैसला करती है ..और आपके पास TCS के 100 है तो आपको 1000 रूपये का डिविडेंड यानि लाभांश प्राप्त होगा….

और Equity Market Segment से पैसे कमाने का तीसरा तरीका  है –

  •  IPO में निवेश से होने वाला लाभ….

जब कोई कंपनी पहली बार स्टॉक मार्केट में अपने शेयर को लिस्ट कराती है तो उसे IPO के माध्यम से अपने शेयर पब्लिक को बेचने होते है , और ऐसे में अक्सर कंपनी के शेयर के भाव IPO के समय काफी कम होती है….लेकिन जैसे ही कंपनी स्टॉक मार्केट में लिस्ट होती है …तो पब्लिक डिमांड के अनुसार उस कंपनी के शेयर के भाव बहुत बढ़ जाते है ….और इस से IPO में निवेश करने वाले निवेशको को बहुत फायदा होता है …

जैसे – हाल ही में IRCTC कंपनी का IPO आया, जिसमे IRCTC के एक शेयर का प्राइस 315 से 320 रूपये तय किया गया था….लेकिन जैसे ही कंपनी के शेयर स्टॉक मार्केट में लिस्ट हुए …उसके कुछ दिनों में IRCTC के एक शेयर का भाव 900 रूपये तक पहुच गया…

और Equity Market Segment से पैसे कमाने का चौथा तरीका  है – 

  • BUYBACK OF SHARE

दोस्तों,  अक्सर कंपनी अपने शेयर जो उसने पब्लिक को बेचे होते है…उस शेयर को काफी अच्छे प्राइस पर लोगो से वापस खरीदने का फैसला करती है ….और इस से भी निवेशको को अच्छा लाभ होता है ….

जैसे – recently INDIA BULLS रियल ESTATE LTD ने अपने 5 करोड़ शेयर 100 रूपये के भाव से BUYBACK करने का फैसला लिया था…

 और दोस्तों  Equity Market Segment से पैसे कमाने का पांचवा  तरीका  है –

  • BONUS SHARE और STOCK SPLIT से होने वाला लाभ

ध्यान दीजिए कि जब कंपनी अपने शेयर होल्डर को उनके पास जितने शेयर है, उसके बदले और एक्स्ट्रा शेयर लाभ के रूप में देती है तो इसे बोनस शेयर कहा जाता है …..

जैसे – अगर आपके पास किसी कंपनी के 100 शेयर है …और कंपनी 2 शेयर पर एक शेयर का बोनस देने का फैसला करती है ..तो आपके पास 100 शेयर के बदले 50 शेयर और मिल जायेंगे….और बोनस शेयर मिलने के बाद आपके पास 150 शेयर हो जायेंगे….

इसके अलावा….

जब कंपनी के शेयर के भाव बहुत ज्यादा हाई प्राइस पर ट्रेड होने लगते है….तो कंपनी हाई प्राइस को एक नार्मल रेंज में लाने के लिए  स्टॉक स्प्लिट करती है ..जिसमे शेयर की संख्या बढ़ जाती है और उसके भाव कम हो जाते है …

जैसे – अगर आपके पास किसी कंपनी के 100 शेयर है …और कंपनी 1:1 के स्टॉक स्प्लिट का फैसला करती है ..तो आपके पास 100 शेयर के बदले अब 200 शेयर हो जायेंगे….लेकिन आपका निवेश का पैसा दोगुना नहीं होगा..वो उतना ही रहेगा..क्योकि स्टॉक स्प्लिट से कंपनी के शेयर के भाव भी आधे हो जायेंगे…….

ध्यान देने वाली बात ये है कि – जब कोई कंपनी बहुत अच्छा प्रॉफिट लगातार कमा रही है..तभी वो बोनस शेयर जारी करती है या फिर स्टॉक स्प्लिट करती है …और ऐसे में बोनस शेयर और स्टॉक स्प्लिट से लॉन्ग टर्म में बहुत ज्यादा फायदा होता है…

और इसका सबसे बड़ा एक्साम्प्ल है….

Infosys और Wipro ,

इनफ़ोसिस और विप्रो में कैसे निवेशको ने 10 हजार रूपये के निवेश से करोड़ो रूपये कमाए…ये आप नीचे या ऊपर कार्ड में दिए लिंक वाले विडियो को देख कर समझ सकते है…

 स्टॉक मार्केट से लाभ -Trading in Equity Market

स्टॉक मार्केट से लाभ कमाने के लिए अगर आप Equity Market में ट्रेडिंग करते है तो इक्विटी मार्केट में ट्रेडिंग करके लाभ कमाने के  अलग अलग बहुत सारे तरीके है

जिसमे सबसे पहला और सबसे पोपुलर तरीका है –

जिसमे आपने किसी कंपनी के शेयर आज ही खरीद और आज ही बेच दिया….इंट्रा डे में आपको जो भी प्रॉफिट या लोस होता है …वो आपके ट्रेडिंग अकाउंट में उसी दिन क्रेडिट या डेबिट हो जाता है …

 जैसे – सुबह 10 बजे को शेयर खरीदना …और कुछ देर बाद जैसे 12 बजे या 2 बजे तक उसे बेच कर प्रॉफिट या लोस बुक करना…

बहुत सारे नए निवेशको के लिए इंट्रा डे ट्रेडिंग बहुत attractive लगता है …और ज्यादातर स्टॉक ब्रोकर कंपनी इंट्रा डे में लेवेरेज या मार्जिन भी देती है…अगर upstox जैसे ब्रोकर की बात करे तो वो आपको इंट्रा डे ट्रेडिंग में 25 गुना तक लीवरेज या मार्जिन देती है…

यानि अगर आपके पास 1 हजार रूपये तो आप 25 गुना मार्जिन का इस्तेमाल करके 25 हजार तक इंट्रा डे ट्रेडिंग कर सकते है….

और ज्यादा लीवेरज से आपके लाभ कमाने का चांस भी ज्यादा होता है …लेकिन ध्यान रहे कि इस से आपका रिस्क भी बढ़ जाता है…और अगर आपको लाभ ज्यादा हो सकता है ..तो नुक्सान भी ज्यादा हो सकता है….

 

EQUITY SEGMENT में ट्रेडिंग से पैसे कमाने का दूसरा तरीका है –

  • Scalper trading (स्कैल्पेर ट्रेडिंग )

scalping ट्रेडिंग भी इंट्रा डे ट्रेडिंग का ही पार्ट है ….और इसमें जो ट्रेडर होता है जिसे हम scalper कहते है …वो कुछ सेकंड या फिर कुछ सेकंड्स या मिनट में, भाव बढ़ने या घटने पर एक बड़ी quantity में शेयर को buy और sell करता है….और लाभ कमाने की कोशिस करता है ,

जैसे – 10:30 पर कोई शेयर खरीदना और उसे 10 बजकर 32 मिनट पर बेच कर प्रॉफिट कमाने की कोशिश करना …

EQUITY SEGMENT में ट्रेडिंग से पैसे कमाने का तीसरा तरीका है –

equity market में short selling भी इंट्रा डे के अन्दर ही आता है…जिसमे ट्रेडर को अपने ट्रेड को same डे अपने पोजीशन को क्लियर करके में loss या प्रॉफिट की बुक करना होता है …

short सेलिंग में ट्रेडर पहले शेयर को उचे भाव पर बेचता है ….और बाद में उस शेयर की जितने quantity को उसने बेचा है उतनी quantity में वापस खरीद कर अपने ट्रेड को कम्पलीट कर लेता है …और अगर उसने पहले महंगे में बेचा और बाद में सस्ते में खरीदा तो उसे प्रॉफिट हो जाता है…

लेकिन ..अगर उसने पहले जितने में शेयर को बेचा …लेकिन ….बाद में शेयर के भाव सस्ते नहीं हुए..जिस कारण से उसे मज़बूरी में अगर बेचे गए भाव से महंगे भाव में खरदीना पड़ा तो उसे लोस होता है….

जैसे – शेयर को 100 के भाव पर शोर्ट करना, यानि शेयर पहले ही बेच देना…और जब शेयर का भाव 98 हो जाये तो उसे खरीद लेना…इस से ट्रेडर को 2 रूपये का प्रॉफिट हो जाता है …

लेकिन….अगर ट्रेडर ने अगर कोई शेयर 100 रूपये के भाव पर short कर दिया लेकिन बाद में शेयर का भाव कम नहीं हुआ…और उसे मज़बूरी में ट्रेड को आज के आज कम्पलीट करने के लिए, ट्रेड Square off करने के लिए 102 रूपये में ख़रीदा …तो इस तरह उसे 2 रूपये का लोस हो जाता है …

इसके अलावा….

EQUITY SEGMENT में ट्रेडिंग से पैसे कमाने का चौथा तरीका है –

जब शेयर को खरीदने के बाद उसे कुछ दिनों से कुछ वीक यानि हफ्ते या फिर महीने 2 महीने तक शेयर के बाद शेयर को बेचा जाये तो इस तरह की ट्रेडिंग को swing ट्रेडिंग कहते है …

जैसे – जनवरी 10 को शेयर ख़रीदा और जनवरी 25 को बेच दिया…और फिर जनवरी 27 को शेयर ख़रीदा और उसे फरवरी 15 को बेच दिया…

इस तरह की कुछ दिन से लेकर कुछ वीक के अन्तराल पर होने वाली ट्रेडिंग को स्विंग ट्रेडिंग कहा जाता है…

और जनरली स्विंग ट्रेडिंग एक बहुत पोपुलर तरीका है स्टॉक मार्केट से बेहतर और कंसिस्टेंट लाभ कमाने का….

EQUITY SEGMENT में ट्रेडिंग से पैसे कमाने का चौथा तरीका है –

  • Positional Trading (पोजीशनल ट्रेडिंग )

जब शेयर को किसी खास इवेंट को ध्यान में रखते हुए, कुछ महीनो के लिए स्टॉक ख़रीदा जाए…और इस तरह शेयर को कुछ महीनो तक होल्ड करने के बाद उसे बेचा जाये तो उसे पोजीशनल ट्रेडिंग कहा जाता है …

जैसे – किसी कंपनी का इनकम रिजल्ट आने से पहले उसके शेयर खरीदना और उसे रिजल्ट तक होल्ड करना…और जनवरी में शेयर खरीदना…और मार्च तक इन्तेजार करने के बाद उसे अप्रैल में बेचना…

पोजीशनल ट्रेडिंग एक महीने से लेकर 12 महीने तक का हो सकता है…इसे शोर्ट टर्म इन्वेस्टिंग भी कहा जाता है ..

और बड़े बड़े फण्ड हाउस और निवेशक भी इस तरह के पोजीशनल ट्रेडिंग करते है…और प्रॉफिट कमाने की कोशिस करते है …

 

स्टॉक मार्केट से लाभ Derivative Market Trading

ध्यान देंने वाली बात ये है कि स्टॉक MARKET के दुसरे SEGMENT DERIVATIVE MARKET में लिस्टेड कंपनी और कुछ पर्टिकुलर इंडेक्स जैसे NIFTY या BANK NIFTY के फ्यूचर कॉन्ट्रैक्ट और OPTION कॉन्ट्रैक्ट की ट्रेडिंग होती है ….

बेसिकली बात करे तो फ्यूचर और आप्शन कॉन्ट्रैक्ट की ट्रेडिंग को ही derivative ट्रेडिंग होता है…और इस लिए इसमें derivative market में pure trading होती है …

इसमें किसी तरह का कोई लॉन्ग टर्म इन्वेस्टमेंट नहीं होता है…क्योकि हर एके derivative कॉन्ट्रैक्ट यानि फ्यूचर और आप्शन की एक एक्सपायरी डेट होती है… और इसमें आप मैक्सिमम एक एक्सपायरी डेट तक के लिए ही ट्रेड ले सकते है…

ध्यान दीजिए कि –अलग अलग कॉन्ट्रैक्ट की एक्सपायरी अलग अलग डेट पर होती है….

जैसे –

कुछ फ्यूचर और आप्शन कॉन्ट्रैक्ट की expiry वीकली यानि 7 days की होती है…

कुछ फ्यूचर और आप्शन कॉन्ट्रैक्ट की expiry मंथली यानि 30 दिनों की होती है…

और कुछ फ्यूचर और आप्शन कॉन्ट्रैक्ट की expiry 90 days यानि 3 महीने की होती है…

और जैसे मैंने कहा …Derivative market में आप मैक्सिमम किसी कॉन्ट्रैक्ट जैसे फ्यूचर और आप्शन की एक्सपायरी डेट तक कल ही आप ट्रेड ले सकते है ….

और इसलिए derivative मार्केट में सिर्फ और सिर्फ ट्रेडिंग होता है …इन्वेस्टमेंट नहीं होता…और आप इसलिए आप स्टॉक मार्केट के इस दुसरे सेगमेंट derrivative मार्केट में सिर्फ ट्रेडिंग से पैसे कमा सकते है ….

जैसे हमने स्टॉक मार्केट के ट्रेडिंग सेक्शन में देखा, उसी तरह यहाँ भी ट्रेडिंग के अलग अलग तरीके से पैसे कमा सकते है …..

जैसे –

  • इंट्रा डे ट्रेडिंग – जिसमे आप डेली फ्यूचर आप्शन को खरीद और बेच सकते है…
  • scalper ट्रेडिंग – जिसमे आप मिनट मिनट पर फ्यूचर आप्शन खरीद और बेच सकते है …
  • और स्विंग ट्रेडिंग – आप एक वीक या एक मंथ के लिए आप ट्रेड करते है …

और एक्सपायरी डेट ट्रेडिंग में आप एक्सपायरी डेट तक के लिए आप ट्रेड ले सकते है …और लाभ कमा सकते है….

DERIVATIVE यानि फ्यूचर और आप्शन की ट्रेडिंग EQUITY MARKET , CURRENCY MARKET और कमोडिटी मार्केट में होता है….

तो आप न सिर्फ EQUITY MARKET में DERIVATIVE ट्रेडिंग से पैसे कमा सकते है …

बल्कि आप CURRENCY MARKET जैसे USD और INR के फ्यूचर और आप्शन के कॉन्ट्रैक्ट की ट्रेडिंग से भी लाभ कमा सकते है …

 

स्टॉक मार्केट से लाभ – Summary

तो इस तरह….अगर आप देखे…तो स्टॉक मार्केट से लाभ (प्रॉफिट)  कमाने के बहुत सारे अलग अलग तरीके है ….जरूरत है आप स्टॉक मार्केट से लाभ कमाने के इन अलग लग तरीको के बारे में सीखे और समझे, और फिर और इन अलग अलग तरीको से पैसे कमाये…

क्योकि….स्टॉक मार्केट से लाभ कमाने के लिए आपको लगातार सीखना और समझना बहुत जरुरी है….

और जो लोग बिना सीखे समझे स्टॉक मार्केट में पैसे बनाने की कोशिस करते है …अक्सर उन लोगो को भारी नुक्सान होता है…

तो आपको कम से कम नुक्सान हो और ज्यादा से ज्यादा लाभ इसके लिए बहुत जरुरी है …कि आप इसे आप जितना इसके बारे में जहा से भी सिख सकते है …सीखे…

और छोटे अमाउंट से शुरुआत करे…प्रैक्टिकल करके देखे….और फिर धीमे धीमे अपनी पोजीशन को बढाते हुए…अच्छा लाभ कमाए..

 

5 Paisa

One Response

  1. shivendra mishra December 28, 2019

Comment on This Post

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.